सदन में गूँजा शिक्षक भर्ती प्रक्रिया का मुद्दा, वरिष्ठ विधायक सत्यनारायण शर्मा ने उठाया राजस्व अभिलेखों के कंप्यूटरीकरण का मुद्दा

रायपुर। आज विधानसभा के मानसून सत्र के पांचवे दिन की शुरुआत में स्कूल शिक्षा मंत्री प्रेमसाय सिंह टेकाम और राज्यस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने विधायकों के सवालों का सामना किया। जहाँ भाजपा विधायक अजय चंद्राकर ने शिक्षक भर्ती का को लेकर मंत्री टेकाम से सवाल किये तो वहीं रायपुर ग्रामीण विधायक सत्यनारायण शर्मा ने राजस्व अभिलेखों के कंप्यूटरीकरण और नामांतरण की ऑनलाइन कार्यवाही को लेकर राजस्व मंत्री से सवाल पूछा।

दरअसल वर्ष 2014-15 में पटवारी और रेवेन्यू इंस्पेक्टरों को जो कंप्यूटर दिए गए थे उन्हें बाद में वापस ले लिया गया था। जिसपर कांग्रेस के वरिष्ठ विधायक सत्यनारायण शर्मा ने राजस्व मंत्री से पूछा कि राजस्व का सबसे अहम कामकाज पटवारी और आरआई करते हैं, ऐसे में उन्हें कब कम्प्यूटर दिया जाएगा। जिसपर राजस्व मंत्री ने कंप्यूटर जल्दी ही दिलाये जाने की बात कहते हुए सदन में ये जानकारी साझा की।

  • वर्ष 2014-15 में भू-अभिलेख कंप्यूटरीकरण- 188 नग
  • वर्ष 2017-18 में भू-अभिलेख कंप्यूटरीकरण- 450 नग
  • वर्ष 2017-18 में ई-कोर्ट के अंतर्गत- 1002 नग
  • वर्ष 2020-21 में भुइयां एवं भू-नक्शा संचालन के लिए- 316 नग
  • कुल 1956 कंप्यूटर की खरीदी की गई।

पिछले पांच महीने में 8 लोगों का हुआ है सत्यापन

वहीं सदन में भाजपा के विधायक अजय चंद्राकर ने एक बार फिर 14 हज़ार 580 शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया का मामला सदन में उठाया। उन्होंने स्कूल शिक्षा मंत्री से पूछा कि 30 जून 2022 की स्थिति में किन-किन संवर्गों की कितनी-कितनी पदों पर प्रक्रिया पूरी हो गई है? सत्यापन काम पूरा हुआ या नहीं? एक पद के सत्यापन के लिए कितनी अवधि लगती है, सत्यापन में हो रही देरी की वजह क्या है ?

सवालों के जवाब में स्कूल शिक्षा मंत्री टेकाम ने कहा कि व्याख्याता का सत्यापन राज्य स्तर पर, शिक्षक का सत्यापन संभाग स्तर पर और सहायक शिक्षकों का सत्यापन ज़िला स्तर पर किया जाता है। ये सत्यापन मेरिट क्रम में किया जाता है।

जवाब सुनकर अजय चंद्राकर ने कहा कि मैं मंत्री के जवाब से बेहद दुखी हूं, रोना आता है। छत्तीसगढ़ को मज़ाक़ बनाकर रख दिया है। छत्तीसगढ़ के बेरोज़गार युवाओं से जुड़ा मामला है। इस सरकार को छत्तीसगढ़ के भविष्य के बारे में बात करने का अधिकार नहीं है। चंद्राकर ने कहा कि इस विषय पर चौथी बार सवाल पूछ रहा हूं। बार-बार सवाल पूछने के बाद अब तक कुल 10 हज़ार 441 पदों की ही भर्ती हो पाई है। पिछले पांच महीने में सिर्फ़ 8 लोगों का सत्यापन हुआ है।

जिसपर स्पीकर चरणदास महंत ने मंत्री टेकाम को निर्देश देते हुए कहा कि अपने विभाग से कहिए कि भर्ती प्रक्रिया के लिए एक निश्चित समय सीमा तय कर लें।

Hindi News के लिए जुड़ें हमारे साथ हमारे
फेसबुक, ट्विटरयूट्यूब, इंस्टाग्राम, लिंक्डइन, टेलीग्रामकू और वॉट्सएप, पर

Back to top button