भाजपा महिला मोर्चा ने प्रदेश भर में किया धरना प्रदर्शन, महिला-बाल विकास विभाग में भ्रष्टाचार को बनाया मुद्दा

भाजपा महिला मोर्चा ने प्रदेश भर में किया धरना प्रदर्शन, महिला-बाल विकास विभाग में भ्रष्टाचार को बनाया मुद्दा
भाजपा महिला मोर्चा ने प्रदेश भर में किया धरना प्रदर्शन, महिला-बाल विकास विभाग में भ्रष्टाचार को बनाया मुद्दा

रायपुर। महासमुंद में महिला एवं बाल विकास विभाग में हुए भ्रष्टाचार के मामले में शासन ने भले ही तत्काल कार्रवाई करके अपनी जिम्मेदारियों की इतिश्री कर ली, मगर यही भ्रष्टाचार अब भाजपा के लिए मुद्दा बन गया है। भाजपा महिला मोर्चा ने इस मामले को लेकर पूरे प्रदेश में धरना प्रदर्शन किया और जिला प्रशासन को ज्ञापन सौंपा।

पिछले दिनों महासमुंद में महिला एवं बाल विकास अधिकारी सुधाकर बोंदले द्वारा अपने ही विभाग में हुए भ्रष्टाचार के खिलाफ अनशन किया गया। इसके बाद हड़बड़ाए अधिकारियों ने इस मामले में दो अधिकारियों को तत्काल निलंबित कर मामले को ठंडा करने का प्रयास किया, मगर विपक्ष कहां चूकने वाला। चूँकि यह मामला महिला एवं बच्चों से जुड़े विभाग से संबंधित था, इसलिए भाजपा की महिला मोर्चा ने इस मुद्दे को उठाया और पहले ही दिन अनशन कर रहे अधिकारी की गिरफ्तारी का विरोध किया, इसके अगले चरण में महिला मोर्चा की प्रदेश अध्यक्ष शालिनी राजपूत के निर्देश पर पूरे प्रदेश में मोर्चे से जुडी नेत्रियों ने अपने-अपने निवास पर तख्ती लेकर धरना प्रदर्शन किया।

राज्यपाल के नाम पर प्रशासन को सौंपा ज्ञापन

भारतीय जनता पार्टी महिला मोर्चा द्वारा समस्त जिलों में प्रदर्शन करने के बाद राज्यपाल के नाम का ज्ञापन प्रशासन को सौंपा गया। ज्ञापन में महिला मोर्चा ने आरोप लगाया कि ढाई वर्षो से कांग्रेस शासनकाल में छत्तीसगढ़ में भ्रष्टाचार अपने चरम पर है। इसका ताजा उदाहरण महासमुंद के महिला बाल विकास विभाग में सामने आया है। ज्ञापन के माध्यम से मांग की गई है कि भ्रष्टाचार के तमाम मामलों की रिटायर्ड न्यायाधीश से जाँच कराइ जाये, संबंधित मंत्री की तत्काल बर्खास्तगी हो, तमाम लाभार्थियों को डीबीटी के माध्यम से सीधे भुगतान किया जाये, और महासमुंद के मामले में तमाम दस्तावेज सार्वजनिक किये जाएं।

Hindi News के लिए जुड़ें हमारे साथ हमारे फेसबुक, ट्विटरटेलीग्राम और वॉट्सएप पर…