पूर्व मुख्यमंत्री समेत तीन कांग्रेस विधायकों को बाल अधिकार आयोग ने भेजा नोटिस, पांच दिन के भीतर देना होगा जवाब

पूर्व मुख्यमंत्री समेत तीन कांग्रेस विधायकों को बाल अधिकार आयोग ने भेजा नोटिस, पांच दिन के भीतर देना होगा जवाब
पूर्व मुख्यमंत्री समेत तीन कांग्रेस विधायकों को बाल अधिकार आयोग ने भेजा नोटिस, पांच दिन के भीतर देना होगा जवाब

हरियाणा। बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने कांग्रेस के विरोध प्रदर्शन कार्यक्रम में आठ साल के एक बच्चे को बैठाए जाने के पार्टी के नेताओं को नोटिस जारी किया है। इस मामले का संज्ञान लेते हुए कांग्रेस नेता भूपेंद्र सिंह हुड्डा और पार्टी के दो अन्य विधायकों को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। बाल अधिकार आयोग ने इस कृत्य को बच्चे के साथ क्रूरता और सार्वजनिक रूप से शर्मसार करने वाला करार देते हुए बृहस्पतिवार को वही पूर्व मुख्यमंत्री भूपिंदर सिंह हुड्डा और कांग्रेस के दो विधायकों नोटिस जारी किया। बाल अधिकार आयोग ने कहा कि राजनीतिक लाभ के लिए किसी बच्चे को रिक्शे पर जबर्दस्ती बैठाना एक प्रकार की क्रूरता है।

घटनाओं के खिलाफ विरोध प्रदर्शन

यह मामला अगस्त महीने का है जब कांग्रेस विधायकों ने राज्य में कथित पेपर लीक, बेरोजगारी, महंगाई और बढ़ती हुई अपराधिक घटनाओं के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करते हुए हरियाणा विधानसभा तक मार्च निकाला था। जिसके विरोध प्रदर्शन के तहत आठ साल एक के बच्चे को साइकिल रिक्शा में बैठाया गया था और उसके हाथ में एक तख्ती दी गयी थी। बाल आयोग ने इसे बच्चे के खिलाफ क्रूरता मानते हुए कांग्रेस विधायक शकुंतला खटक और कुलदीप वत्स से जवाब दाखिल करने के लिए पांच दिन का समय दिया है।

जवाब के लिए दिया पांच दिन का समय

बाल अधिकार आयोग ने कहा कि राजनीतिक लाभ के इस प्रकार के कृत्य के लिए किशोर न्याय (बच्चों की देखभाल और संरक्षण) अधिनियम, 2015 और भारतीय दंड संहिता समेत कानून के अन्य प्रावधानों के तहत दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई हो सकती है। आयोग ने इस मामले में हरियाणा विधानसभा में विपक्ष के नेता एवं पूर्व मुख्यमंत्री हुड्डा और कांग्रेस विधायक शकुंतला खटक और कुलदीप वत्स को जवाब दाखिल करने के लिए पांच दिन का समय दिया है।

Hindi News के लिए जुड़ें हमारे साथ हमारे
फेसबुक, ट्विटरयूट्यूब, इंस्टाग्राम, लिंक्डइन, टेलीग्रामकू और वॉट्सएपपर