Home ओपिनियन कोविड -19 महामारी से निपटने के लिए डिजिटल परिवर्तन की आवश्यकता

कोविड -19 महामारी से निपटने के लिए डिजिटल परिवर्तन की आवश्यकता

265
0
Digitalization
कोविड -19

मनीष सिंह
ब्लॉगर, डिजिटल लीडर और साइबर सुरक्षा विशेषज्ञ
लंदन

TRP Desk – ये (Covid -19) मानव जाति के लिए वास्तव में कठिन समय हैं। द्वितीय विश्व युद्ध के बाद से हम सबसे खराब मानवीय संकट के बीच हैं। कई स्वास्थ्य विशेषज्ञ यह अनुमान लगा रहे हैं कि हालात अगले कुछ हफ्तों या महीनों तक खराब ही रहेंगे। वर्तमान स्थिति एक हॉलीवुड फिल्म सरीखे लग रही है। दुनिया भर में सरकारें विभिन्न उपाय कर रही हैं और लोग सामाजिक दूरी और लॉकडाउन दिशानिर्देशों का पालन कर रहे हैं, ऐसे कुछ तरीके हैं जिनसे तकनीक इन कठिन समय के दौरान लोगों की मदद कर सकती है। कई चीजें ऐसी हैं जहां आप विभिन्न कार्यों को करने के लिए आधुनिक डिजिटल तकनीक का उपयोग कर सकते हैं।

डिजिटल बैंकिंग आपके सभी बैंकिंग लेनदेन संबंधी जरूरतों का ध्यान रख सकती है। आज के समय में सभी बैंकों के मोबाइल और वेब ऐप उपलब्ध हैं, जिनका उपयोग करके आप अपने घर पर बैठकर ही विभिन्न गतिविधियाँ कर सकते हैं। लगभग सभी बैंक अपने डिजिटल चैनलों को बढ़ावा दे रहे हैं और उपयोगकर्ताओं को अपने संबंधित डिजिटल बैंकिंग प्लेटफार्मों का यथासंभव उपयोग करने के लिए कह रहे हैं। यदि आप इनमें से किसी ऐप का उपयोग करते समय समस्याओं का सामना करते हैं, तो चैट के साथ-साथ ऑन-कॉल के माध्यम से सहायता उपलब्ध रहती है।

किराने और अन्य दैनिक जरूरत की वस्तुओं के लिए ऑनलाइन ऑर्डर मददगार हो सकते हैं। कई बड़ी सुपरमार्केट चेन या दुकानें ऑनलाइन ऑर्डर देने की सुविधा प्रदान करती हैं और उपलब्ध स्लॉट के आधार पर वे आपके साथ भौतिक संपर्क में आए बिना आपके घर तक आइटम पहुंचा सकती हैं। अमेज़न, बिग बास्केट और इस तरह की कई वेबसाइट्स इस तरह की सुविधाएँ उपलब्ध करवाती हैं। इन तरीकों से आप पूरी सुरक्षा से घर के सामान मंगवा सकते हैं । जितना ही आप चीजें खरीदने के लिए बाहर कम जाएँगे , बीमारी को पकड़ने की संभावना उतनी ही कम होती जाएगी।

ऑनलाइन कक्षाएं और ई-लर्निंग एक और चीज है जो वर्तमान समय में काफी उपयोगी है। इस महामारी के समय में इनकी महत्ता और भी बढ़ गयी है। छात्रों, शिक्षाविदों से लेकर कामकाजी पेशेवरों तक के लिए, कई ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म कक्षाओं का संचालन करने और नई चीजें सीखने के लिए उपयोग किए जा रहे हैं। इन सभी साधनों का उपयोग करने में लोगों को बहुत फायदा हो रहा है। इस तरह से नियमित कक्षाओं में समय की हानि को रोका जा सकता है। इस तरीके से लोग नई चीजें सीख सकते हैं और एक दूसरे का सहयोग भी कर सकते हैं।

यूटिलिटी बिल भुगतान विभिन्न ऐप और ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म के माध्यम से किये जा सकते हैं। आप बिना किसी चिंता के विभिन्न मोबाइल ऐप का उपयोग करके अपने बिजली के बिल, फोन बिल, गैस कनेक्शन बिल का भुगतान आसानी से कर सकते हैं। कई सरकारी संस्थाएँ डिजिटल प्लेटफॉर्म के माध्यम से भुगतान स्वीकार कर रही हैं। आप गैस प्रदाता वेबसाइट पर कुछ क्लिक करके गैस सिलेंडर बुक कर सकते हैं और ऑनलाइन भुगतान भी कर सकते हैं। अधिकांश भुगतान तुरंत या एक-दो व्यावसायिक दिनों के भीतर परिलक्षित हो सकते हैं।

इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी मंत्रालय द्वारा विकसित मोबाइल ऐप आरोग्य सेतु, नागरिकों को कोविड -19 (कोरोनावायरस) के अनुबंध के जोखिम की पहचान करने में मदद करता है। इस ऐप के पहली बार लॉन्च होने के कुछ दिनों के भीतर ही 10 मिलियन से अधिक डाउनलोड हो गए। यह ऐप गूगल प्ले ( एंड्राइड फ़ोन के लिए ) अवं एप्पल ऐप स्टोर ( आई-फ़ोन हेतु ) दोनों पर उपलब्ध है। यह ऐप कुल 11 भाषाओं – 10 भारतीय भाषाओं और अंग्रेजी में उपलब्ध है। आरोग्य सेतु को उपयोगकर्ता को उस मामले में सूचित रखने के लिए डिज़ाइन किया गया है यदि उसने किसी ऐसे व्यक्ति के साथ संपर्क किया हो जिसका कोरोना सकारात्मक परीक्षण किया गया है। यह ट्रैकिंग एक ब्लूटूथ और स्थान-जनरेट किए गए सामाजिक ग्राफ़ के माध्यम से की जाती है, जो किसी कोविड -19 पॉजिटिव संदिग्ध व्यक्ति से आपके संपर्क को दर्शा सकती है।
मनीष कुमार सिंह


Digital Transformation Leader, Cyber Security Expert