कोरोना काल में भी महिलाओं ने दिखाया अपना हुनर, 1 लाख 74 हजार 150 रूपये की हुई आमदनी

रायपुर। कोरोना काल में ग्रामीण क्षेत्रों में रह रही महिलाओं के आर्थिक संकट को खत्म करने का एक नया रास्ता खोजा गया है। महिलाओं ने बड़ी जिम्मेदारी के साथ स्वयं की कार्यशैली को बदला ही नहीं, बल्कि आय के साधन के लिए रास्ते निकाले है। जिससे परिवार चलाने में बड़ा सहयोग हो रहा है।

आपको बता दे की कोरोना का संकट लगातार बड़ा जा रहा है, इससे निपटने के लिए सभी राज्यों में अलग अलग नियमों का पालन किया जा रहा है। कई राज्यों लॉकडाउन भी किया जा रहा है। जिस वजह से बड़ी से बड़ी व्यवस्थाएं हिल गईं, लेकिन इन्हीं हालात में देश के गरीब महिलाओं की संघर्ष शक्ति, संयम शक्ति का भी प्रदर्शन कर रही है। ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत स्व-सहायता समूह की महिलाए विभिन्न उत्पाद बनाकर और उसे बाजार में विक्रय कर आत्मनिर्भता की राह पकड़ रही है। राज्य सरकार कार्ययोजना बनाकर इन स्व-सहायता समूहों को प्रशिक्षण और संसाधन उपलब्ध करा रही है। कांकेर जिले के ग्राम पंचायत बांसकुण्ड के आश्रित ग्राम बनौली की राधा स्व-सहायता समूह की महिलाओं ने लाख पालन का व्यवसाय अपनाकर आर्थिक लाभ कमा रही है।

उनकी इस सफलता में अम्बेडकर विश्वविद्यालय नई दिल्ली के छात्र एवं सहभागी समाजसेवी संस्था का भी सहयोग रहा है। राधा स्व-सहायता समूह की महिलाओं की इस उपलब्धि से बिहन लाख समय पर नहीं मिलने की समस्या से अन्य लाख उत्पादक किसानों को भी मुक्ति मिलेगी।

इस तरह शुरू किया था उत्पादन का कार्य

राधा महिला स्व-सहायता समूह के माध्यम से कृषि विज्ञान केन्द्र कांकेर के द्वारा वर्ष 2018 के मई माह में महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना अंतर्गत दो एकड़ भूमि में सेमियालता के 4 हजार पौधों का रोपण कर लाख उत्पादन का कार्य प्रारम्भ किया था। रोपे गये सेमियालता पौधों में एक वर्ष पश्चात् माह जुलाई 2019 में बिहन लाख लगाया। जिससे 6 माह पश्चात 2 क्विंटल लाख का उत्पादन हुआ। इसमें से एक क्विंटल लाख का विक्रय कर 35 हजार रूपये की आमदनी हुई। बाकि एक क्विंटल लाख को जनवरी-फरवरी माह में कुसुम के वृक्ष में बिहन लाख के रूप में उपयोग किया गया। इससेे जुलाई माह में पुनः 8 क्विंटल लाख का उत्पादन प्राप्त हुआ। इसमें से 6 क्विंटल 45 किलोग्राम लाख को 270 रूपये प्रति किलोग्राम की दर से विक्रय कर एक लाख 74 हजार 150 रूपये की आमदनी प्राप्त की गई। शेष एक क्विंटल 55 किलोग्राम लाख को जुलाई माह में पुनः सेमियालता पौधे में बिहन के रूप में लगाया गया है।

Chhattisgarh से जुड़ी Hindi Newsके अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें 

Facebookपर Like करें, Twitterपर Follow करें  और Youtube  पर हमें subscribe करें।