छत्तीसगढ़: जब पुलिस थाने पहुंची दुल्हन के घर के लिए निकली बारात, जानें क्यों?

जगदलपुर। छत्तीसगढ़ में जगदलपुर जिले के दरभा विकासखंड में रविवार को शादी से जुड़ा एक अनोखा मामला सामने आया। यहां ग्राम पखनार देवापारा निवासी एक परिवार द्वारा प्रशासन को झांसे में रखकर नाबालिग बेटे का विवाह रचाया जा रहा था। दरअसल, नाबालिग के परिवार वालों ने लड़के के रिश्ते में भाई लगने वाले युवक के नाम से प्रशासन से अनुमति लेने के बाद शादी का कार्ड भी उसके नाम पर छपवाया था। इतना ही नहीं, बारात गाड़ी में भी इसी कार्ड को चस्पा करा दिया था, ताकि पकड़ में न आएं। लेकिन इसकी सूचना महिला एवं बाल विकास विभाग तक पहुंच गई।

इधर रविवार दोपहर में बारात पखनार से दुल्हन के गांव भडरीमऊ के लिए निकल चुकी थी। विभाग के अधिकारियों व पुलिस की टीम ने उनका पीछा किया और रास्ते में रोककर दरभा थाने लाए। पूछताछ के बाद बारात को पखनार बैरंग लौटा दिया गया।

लड़का और लड़की दोनों नाबालिग

जिला बाल संरक्षण इकाई में विधिक सह परीविक्षा अधिकारी संतोष वैद्य ने बताया कि लड़का और लड़की दोनों नाबालिग हैं। दूल्हा के स्वजनों ने विवाह की अनुमति के लिए तहसीलदार कार्यालय में आवेदन दिया था। लड़के की उम्र कम होने से अनुमति नहीं मिली। इस पर परिवार के लोगों ने रिश्ते में बड़ा भाई लगने वाले एक युवक के नाम से प्रशासन से विवाह की अनुमति ले ली और उसकी आड़ में नाबालिग की शादी करा रहे थे।

पुलिस कर रही मामले की जाँच

वैद्य ने बताया कि लड़का और लड़की के नाबालिग होने के कारण सार्वजनिक रूप से उनका और उनके परिवार का नाम उजागर नहीं किया जा रहा है। पुलिस इस मामले की जांच कर रही है। कार्रवाई में परियोजना अधिकारी यू खोब्रागढ़े, जिला बाल संरक्षण इकाई में सलाहकार रंजीता देवांगन आदि भी शामिल थे। बारात को थाने पहुंचाने के बाद अधिकारियों की टीम लड़की के घर भडरीमऊ भी गई और उसके स्वजनों को समझाकर विवाह रुकवाया।

Hindi News के लिए जुड़ें हमारे साथ हमारे फेसबुक, ट्विटरटेलीग्राम और वॉट्सएप पर

 

Back to top button