यहां चुनाव के दौरान होने वाली अवैध शराब बिक्री पर लगाम, अस्थाई लाइसेंस की प्रक्रिया पर लगी रोक

टीआरपी डेस्क। उत्तर प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव (Uttar Pradesh Assembly Election) में राजनैतिक पार्टियां ही नहीं प्रशासन भी पूरी तैयारी कर रहा है। पुलिस अवैध तरीके से हथियार और शराब बनाने वालों की पकड़ रही है। वहीं आबकारी विभाग (Excise Department) ने भी चुनाव के दौरान शराब की अवैध बिक्री को रोकने के लिए बड़ा कदम उठाया है। जिसके तहत राज्य में फिलहाल शराब बिक्री के लिए अस्थाई लाइसेंस की प्रक्रिया को रोक दिया गया है।

चुनाव के दौरान अक्सर शराब की बिक्री में भी बढ़ोतरी देखी जाती है। इसी पर लगाम कसने के इरादे से आबकारी विभाग ने ये कदम उठाया है। विभाग की ओर से 15 मार्च तक के लिए राज्य में अस्थाई लाइसेंस पर रोक लगा दी गई है। इसी के साथ ही जिन लोगों को अस्थाई लाइसेंस जारी किए गए थे, विभाग उन पर निगरानी कर रहा है।

आबकारी विभाग के मुताबिक चुनाव के दौरान अस्थाई लाइसेंस दिए जाने से शराब की अवैध बिक्री, शराब के स्टोरेज का जरिया बन सकती है और इसका इस्तेमाल चुनावों में किया जा सकता है। इसी को देखते हुए आबकारी विभाग ने ये फैसला किया है। नए लाइसेंस के लिए अब आगे की प्रक्रिया 15 मार्च के बाद ही शुरू हो सकेगी।

रेलवे स्टेशनों के साथ ट्रेनों में शराब और हथियार की तस्करी रोकने के लिए चेकिंग की जा रही है। जीआरपी और आरपीएफ के जवान ट्रेनों द्वारा आने वाले यात्रियों पर निगरानी रखे हुए हैं। पुलिस स्टापेज वाली पेसिंजर सहित सभी ट्रेनों में ठहराव के दौरान यात्रियों की चेकिंग कर रही है।

Hindi News के लिए जुड़ें हमारे साथ हमारे
फेसबुक, ट्विटरयूट्यूब, इंस्टाग्राम, लिंक्डइन, टेलीग्रामकू और वॉट्सएप, पर

Back to top button