Assam Floods: बाढ़ के चलते जनजीवन अस्त-व्यस्त! पिछले 24 घंटे में 4 बच्चों समेत 12 लोगों की हुई मौत

गुवाहाटी। राज्य में बुधवार को बाढ़ के कारण मनाव जीवन अस्त व्यस्त हो गया है। राज्य में बुधवार को बाढ़ की स्थिति जस की तस रही। बाढ़ की चपेट में आने से बीते 24 घंटों में 4 बच्चों समेत 12 और लोगों की मौत हो गई।

बाढ़ से मरने वालों की संख्या बढ़कर हुई 100

इन मौतों के साथ, इस साल की बाढ़ और भूस्खलन में मरने वालों की संख्या बढ़कर 100 हो गई है। जबकि होजई जिले से चार, कामरूप में दो, बारपेटा और नलबाड़ी में तीन-तीन लोगों की मौत हुई है। वहीं राज्य में 32 जिलों के 4,941 गांवों में 54.7 लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं।

जिला प्रशासन द्वारा प्रभावित जिलों में कुल 845 राहत शिविर और 1025 राहत वितरण केंद्र स्थापित किए गए हैंष इन शिविरों में 2.71 लाख से अधिक लोगों ने शरण ली हुई है। चिरांग जिले में बुधवार को बाढ़ की स्थिति बिगड़ने के बाद दमकल और आपातकालीन सेवा के जवान हरकत में आ गए।

बाढ़ के पानी में डूबे ये जिले

खबरों से मिली जानकारी के मुताबिक बजलि, बक्सा, बारपेटा, विश्वनाथ, बोंगाईगांव, कछार, चिरांग, दरांग, धेमाजी, धुबरी, डिब्रूगढ़, दीमा-हसाओ, गोलपारा, गोलाघाट, हैलाकांडी, होजई, कामरूप, कामरूप मेट्रोपॉलिटन, कार्बी आंगलोंग वेस्ट, करीमगंज, कोकराझार, लखीमपुर, माजुली , मोरीगांव, नगांव, नलबाड़ी, शिवसागर, सोनितपुर, दक्षिण सलमारा, तामूलपुर, तिनसुकिया और उदलगुरी जिले बाढ़ के पानी में डूबे हुए हैं।

Hindi News के लिए जुड़ें हमारे साथ हमारे
फेसबुक, ट्विटरयूट्यूब, इंस्टाग्राम, लिंक्डइन, टेलीग्रामकू और वॉट्सएप, पर

Back to top button