राष्ट्रपति चुनाव में मतदान के लिए मैसूर में बनी अल्ट्रावाइलेट पैन का होगा इस्तेमाल

रायपुर। राष्ट्रपति चुनाव के लिए मतदान 18 जुलाई को देशभर में एक साथ होगा। चुनाव के लिए उम्मीद्वारों के नाम तय होते ही कवायद तेज हो गई है। चुनाव के लिए मतपत्र और अन्य मतदान सामग्रियां विशेष विमन से 12-13 जुलाई को यहां लाई जाएंगी।

विधानसभा के समिति कक्ष में होगा मतदान

छत्तीसगढ़ में मतदान विधानसभा के समिति कक्ष में कराया जाएगा। इसके लिए यहां भेजी जा रही मतदान सामग्रियों में मतपत्र, मतपेटी और अन्य सामान होंगे। इसके अलावा मतदान के समय राइट का निशान लगाने के लिए अल्ट्रावायलेट स्याही युक्त पेन भी होगा। इसमें स्याही बैंगनी रंग की होगी। विधायक-सांसदों को इसी पेन से मतपत्र में अपनी पसंद के प्रत्याशी के नाम के आगे 1 या 2 नंबर लिखना होगा। ये नंबर इंग्लिश, हिन्दी और रोमन अंकों में लिखा होगा। शब्दों का इस्तेमाल नहीं किया जा सकता। इसके अलावा किसी दूसरे पेन का इस्तेमाल करने से वोट रद्द हो जाएगा। मतदाता अपने पेन से केवल वोटर लिस्ट में हस्ताक्षर कर सकेंगे।

दो के अलावा सभी के नामांकन निरस्त

16वें राष्ट्रपति बनने के लिए देशभर से 114 लोगों ने नामांकन दाखिल किया था। इनमें छत्तीसगढ़ के डोंगरगांव से रामजी लाल खांडे का भी नाम शामिल है। इनका नामांकन रद्द हो गया है। इस चुनाव में सर्वाधिक महाराष्ट्र और दक्षिण के राज्यों के लोगों ने पर्चे भरे थे, जो निरस्त हो गए। पर्चों की जांच के बाद केवल द्रौपदी मुर्मू और यशवंत सिन्हा के नामांकन फॉर्म ही वैध पाए गए हैं और इनके बीच सीधा मुकाबला होगा।

Hindi News के लिए जुड़ें हमारे साथ हमारे
फेसबुक, ट्विटरयूट्यूब, इंस्टाग्राम, लिंक्डइन, टेलीग्रामकू और वॉट्सएप, पर

Back to top button