डेढ़ माह बाद, 6 सितम्बर को इन 6 मुद्दों पर भूपेश कैबिनेट में चर्चा
file photo

0 सीएम की अध्यक्षता में मंत्री परिषद् में कुछ पर स्वीकृति तो कुछ मुद्दों पर प्रस्ताव होगा तय

विशेष संवादाता, रायपुर
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की अध्यक्षता में मंत्री परिषद् की बैठक होगी। डेढ़ महीने बाद होने वाली प्रस्तावित कैबिनेट बैठक 6 सितम्बर को होगी। नवगठित जिलों की सौगात देने के चंद रोज़ बाद होने वाली मंत्री परिषद् की इस बैठकी में आधा दर्जन अहम् मुद्दों पर चर्चा के साथ ही कुछ चुनिंदा विषयों पर प्रस्ताव भी लाया जायेगा। बैठक में आवश्यक विषयों पर मंत्रणा के बाद स्वीकृति भी मिलने की उम्मीद है। खासकर कैबिनेट की बैठक में नवगठित जिलों के लिए अतिआवश्यक सेटअप, कर्मवचारियों के भत्ते और धन खरीदी की व्यवस्था पर होना तय मन जा रहा है। बैठक में यूं तो दर्जनभर से ज़्यादा विषयों पर चर्चा होनी है, लेकिन आधा दर्जन मुद्दों पर फैसला भी होगा।
आज शनिवार को दो नए जिलों के उद्घाटन के बाद प्रदेश में जिलों की संख्या बढ़कर 31 हो जाएगी। मनेंद्रगढ़ चिरमिरी और सक्ती जिला भी जल्द ही अस्तित्व में आ जाएगा। इन सभी जिलों के लिए सेटअप, भवन आदि की व्यवस्था करनी होगी। इसके अलावा बड़ी संख्या में निर्माण कार्य आदि के लिए भी राशि की जरूरत होगी। कैबिनेट में इन सभी की व्यवस्था पर फैसला होना है। दिवाली से पहले किसानो के धान भुगतान, खरीदी के अलावा कर्मचारियों को हड़ताल से लौटने के बाद उनकी मांगों पर भी गंभीर चर्चा होना है। कैबिनेट में कर्मचारियों की हड़ताल और उनकी मांगों के संबंध में भी चर्चा हो सकती है, क्योंकि पहली बार इतनी बड़ी संख्या में कर्मचारी हड़ताल पर थे। जिन मांगों पर सहमति बनी है, उसमें गृह भाड़ा भत्ते का भी मुद्दा है, जो 2016 से पेंडिंग है। इस पर कमेटी बनाने का प्रस्ताव है। धान खरीदी और बारदानों के साथ मार्कफेड के लिए बैंक गारंटी की भी व्यवस्था पर चर्चा संभव है । इस विषय पर भी कैबिनेट में बातचीत की जाएगी। इसके अलावा नए आत्मानंद स्कूल और कॉलेज के संबंध में भी कैबिनेट में स्वीकृति हो सकती है। रायगढ़ में नया कॉलेज खोलने का प्रस्ताव है। कुछ नए कॉलेज के लिए भी प्रस्ताव आ सकता है।