टीआरपी डेस्क। जीएसटी अधिकारियों ने पिछले दो वर्षों में 55,575 करोड़ रुपये की जीएसटी धोखाधड़ी का पता लगाया है। सरकारी खजाने को नुकसान पहुंचाने के आरोप में 700 से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया है। एक अधिकारी ने गुरुवार को यह जानकारी दी।

इसके अलावा GST इंटेलिजेंस महानिदेशालय (DGGI) के अधिकारियों द्वारा 22,300 से अधिक नकली GST पहचान संख्या (GSTIN) का पता लगाया गया है। बता दें कि सरकार द्वारा 9 नवंबर, 2020 को नकली/फर्जी चालान जारी करके धोखाधड़ी से इनपुट टैक्स क्रेडिट (आईटीसी) प्राप्त करने के लिए बेईमान संस्थाओं के खिलाफ एक राष्ट्रव्यापी विशेष अभियान शुरू किया गया है।

जीएसटी चोरी के खिलाफ सख्त हुई सरकार

अधिकारी ने कहा कि विशेष अभियान के दो वर्षों में 55,575 करोड़ रुपये की जीएसटी/आईटीसी धोखाधड़ी का पता चला है। इस मामले में 719 लोगों को गिरफ्तार किया गया है, जिनमें 20 सीए/सीएस प्रोफेशनल्स भी शामिल हैं। इस दौरान 3,050 करोड़ रुपये के वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) की स्वैच्छिक जमा राशि की गई है।

Hindi News के लिए जुड़ें हमारे साथ हमारे
फेसबुक, ट्विटरयूट्यूब, इंस्टाग्राम, लिंक्डइन, टेलीग्रामकू और वॉट्सएप, पर