कांकेर। भानुप्रतापपुर उपचुनाव के लिए भाजपा से लड़ रहे ब्रह्मानंद नेताम की उम्मीदवारी निरस्त करने के लिए सोमवार सुबह पीसीसी अध्यक्ष मोहन मरकाम के साथ कांग्रेस के प्रतिनिधिमंडल ने जिला निर्वाचन अधिकारी को ज्ञापन सौंपा। साथ ही, गिरफ्तारी की मांग को लेकर भी पुलिस को ज्ञापन दिया है।

पीसीसी अध्यक्ष मोहन मरकाम ने एक दिन पहले ही प्रेस कांफ्रेंस में सनसनीखेज खुलासा करते हुए बताया कि पूर्व विधायक ब्रह्मानंद नेताम के खिलाफ दुष्कर्म और पोक्सो एक्ट के तहत मामला दर्ज है। 15 साल की बच्ची के साथ दुष्कर्म करने के साथ साथ देह व्यापार में धकेलने का भी आरोप है। कांग्रेस नेताओं ने तत्काल ब्रह्मानंद नेताम की गिरफ्तारी की मांग की है। साथ ही उनका नामांकन निरस्त करते हुए चुनाव लड़ने से अपात्र घोषित करने की मांग को लेकर जिला निर्वाचन अधिकारी को ज्ञापन सौंपा है।

आदिवासियों के चरित्र हनन का आरोप

भानुप्रतापपुर में प्रत्याशी ब्रम्हानंद नेताम पर नाबालिग से रेप के सनसनीखेज आरोप के बाद प्रदेश भाजपा के नेता मीडिया से रूबरू हुए, और भाजपा प्रत्याशी का बचाव किया। नेता प्रतिपक्ष नारायण चंदेल और पार्टी प्रवक्ता केदार कश्यप ने नेताम पर लगे आरोप को खारिज किया। उन्होंने कांग्रेस के आरोपों को बेबुनियाद, और राजनीति से प्रेरित करार दिया। भाजपा नेताओं ने कहा कि आदिवासी आरक्षण खत्म करने के बाद कांग्रेस अब आदिवासियों के चरित्रहनन पर उतर आई है।

भाजपा प्रवक्ता केदार कश्यप ने कहा कि कांग्रेस नेताम पर बेबुनियाद आरोप लगाकर पूरे आदिवासी समाज के चरित्र हनन का काम कर रही है। इसका खामियाजा उसे भुगतना होगा। उन्होंने यह भी कहा कि उन्हें जानकारी मिली है कि कांग्रेस के आंतरिक सर्वे में कांग्रेस हार के कगार पर खड़ी है। इसलिए ओछी हरकत पर उतर आई है।

कश्यप ने कहा कि झारखंड में 2019 में पास्को एक्ट के तहत प्रकरण दर्ज करने की बात कही गई है। आज तीन साल से अधिक हो गए हैं। ब्रम्हानंद से पूछताछ क्यों नहीं की गई? एक नोटिस तक क्यों जारी नहीं किया गया?

Hindi News के लिए जुड़ें हमारे साथ हमारे
फेसबुक, ट्विटरयूट्यूब, इंस्टाग्राम, लिंक्डइन, टेलीग्रामकू और वॉट्सएप, पर