रायपुर। कोल घोटाले मामले में EOW निलंबित आईएएस समीर बिश्नोई और घोटाले के किंग-पिंग कहे जा रहे सूर्यकांत तिवारी को रिमांड में लेकर पूछताछ कर रही है। दोनों को 30 मई को रिमांड पर लिया गया था। अब इन दोनों की ईओडब्ल्यू रिमांड 2 दिन के लिए बढ़ा दी गई है। 30 मई से लगातार दोनों से पूछताछ की जा रही है। इस दौरान दो बार रिमांड बढ़ाई भी गई है। दोनों के अलावा निलंबित आईएएस रानू साहू और निलंबित एसएएस सौम्या चौरसिया को भी रिमांड में लिया गया था। चारों को एक साथ बैठाकर भी पूछा गया है। इसके बाद दोनों महिला अधिकारियों को न्यायिक रिमांड पर जेल भेज दिया गया है।

दूसरी तरफ मामले में एक बार फिर ईओडब्ल्यू ने जेल में बंद आरोपियों को प्रोडक्शन वारंट पर पेश करने के लिए आवेदन लगाया है। विशेष कोर्ट ने ईओडब्ल्यू के आवेदन को स्वीकार कर लिया। कल जेल में बंद चार आरोपी लक्ष्मीकांत तिवारी, शिवशंकर नाग, सुनील नायक और निखिल चंद्राकर प्रोडक्शन वारंट पर पेश होंगे। संभव है कि चारों से सूर्यकांत और समीर बिश्नोई की मौजूदगी में भी सवाल-जवाब हो। ब्यूरो की टीम करीब 12 दिन से इन दोनों आरोपियों से पूछताछ कर रही है। EOW की टीम कोल लेवी घोटाले के संबंध में लगातार कार्रवाई कर रही है। पहले इन सभी से जेल में जाकर पूछताछ की गई। लेकिन, अब सभी जिम्मेदारों को ब्यूरो ने रिमांड पर लेकर पूछताछ शुरू की। ईओडब्ल्यू ने प्रोडक्शन वारंट के लिए कोर्ट में आवेदन लगाया था। कोर्ट ने आवेदन का स्वीकार कर लिया, जिसके बाद दोनों की रिमांड ली गई थी।

जानकारी के अनुसार ईडी की रिपोर्ट के आधार पर ईओडब्ल्यू ने जनवरी में कोल लेवी घोटाले में करीब 35 लोगों पर एफआईआर की थी। छत्तीसगढ़ में प्रवर्तन निदेशालय ने 540 करोड़ रुपए के कथित कोयला घोटाले का खुलासा किया था। मनी लॉन्ड्रिंग के इस मामले में ईडी ने आईएएस अधिकारी समीर विष्णोई और व्यापारी सूर्यकांत तिवारी सहित तीन अन्य को गिरफ्तार किया था। मनी लॉन्ड्रिंग मामला खदानों में लगे ट्रांसपोर्टर और ट्रकों पर अवैध लैवी वसूलने का है। फिर दो दिसंबर 2022 करीब साढ़े 17 महीने पहले सौम्या चौरसिया को ED ने गिरफ्तार कर लिया था। इसके बाद पिछले साल 22 जुलाई की सुबह IAS रानू साहू को गिरफ्तार कर लिया था।

Trusted by https://ethereumcode.net