रायपुर। रेलवे अपने दिल्ली से पूर्व दिशा के यात्रियों के लिए नई सविधा देने जा रही है। दरअसल लंबी दूरी की ट्रेनों में भीड़ की समस्या दूर करने रेलवे जल्द देश के विभिन्न राज्यों में स्पेशल ट्रेनों का संचालन शुरू करने जा रहा है, जिसमें छत्तीसगढ़ भी शामिल है।

सर्वे के बाद लिया गया फैसला

रेलवे ने बीते दिनों भीड़ वाली ट्रेनों का सर्वे किया था, जिसमें दिल्ली से पूर्व दिशा को जाने वाली ट्रेनों में पूरे वर्ष अधिक भीड़ पाई गई। अब सर्वे के आधार पर छत्तीसगढ़, उप्र, बिहार, बंगाल, असम, ओडिशा, झारखंड व आंध्रप्रदेश के लिए जल्द गैर वातानुकूलित ट्रेनों का संचालन शुरू होगा।

गैर वातानुकूलित ट्रेनों में रहेंगे 11 जनरल कोच

इन ट्रेनों में खास बात यह भी है कि, इसमें 11 जनरल और 12 स्लीपर कोच के साथ चार पार्सल कोच भी लगेंगे, ताकि यात्रियों को सामान बुक कराकर ले जाने में आसानी हो। एलएचबी कोच के आने से ट्रेनों में जनरल और स्लीपर कोच कम हो गए हैं, लेकिन इस स्पेशल ट्रेन में एसी कोच नहीं होगा। इसीलिए इस ट्रेन को आम आदमी की ट्रेन कहा जा रहा है।

अब दिल्ली से पूर्व दिशा के यात्रियों का सफर होगा आसान

दिल्ली से पूर्व दिशा की ट्रेनों में पूरे वर्ष भीड़ होती है। लंबी प्रतीक्षा सूची रहती है। त्योहार के दिनों में यात्रियों की संख्या और बढ़ जाती है। सर्वे में पता चला है कि दपूमरे से दिल्ली आने वाले जनरल कोच में लोगों को कष्टदायक स्थिति में यात्रा करनी पड़ती है। साथ ही स्लीपर कोच में भी भीड़ बढ़ रही है। बहुत यात्री वेटिंग टिकट लेकर यात्रा करते हैं। ऐसे में त्योहार व गर्मी की छुट्टियों में विशेष ट्रेनें भी चलाई जाती हैं। अब इसका स्थायी हल निकालने के लिए ऐसे रूट पर पूरे वर्ष गैर वाताणुकूलित ट्रेनें चलाने का फैसला किया गया है। जल्द ही ट्रेनों में भीड़ की समस्या दूर होगी और सफर आसान होगा।

ट्रेन की एक रैक बनकर तैयार

रेलवे बोर्ड ने ट्रेनों के संचालन के लिए रैक तैयार करना शुरू कर दिया है। जानकारी के मुताबिक एक रैक तैयार हो चुकी है। रेलवे बोर्ड के सदस्य नवीन गुलाटी और परिचालन एवं व्यवसाय विकास सदस्य जय सिन्हा ने नई दिल्ली स्टेशन पर रैक की जांच की है। अब उनकी रिपोर्ट के आधार पर इसे चलाने का निर्णय लिया जाएगा। उम्मीद लगाई जा रही है कि पहली ट्रेन दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के रूट पर चलाई जा सकती है। आम चुनाव से पहले चुने गए अधिकतर शहरों के बीच इस तरह की ट्रेनें चलाने की तैयारी है। नई ट्रेन छत्तीसगढ़ के साथ उप्र, बिहार, बंगाल, असम, ओडिशा, झारखंड, पंजाब, गुजरात, तमिलनाडु, महाराष्ट्र, आंध्रप्रदेश के लिए चलाने की योजना है।