किसान बिल के विरोध में छत्तीसगढ़ के किसानों ने उठाई आवाज

नेशनल डेस्क। किसानों से जुड़े बिल (Farmer Bills) के विरोध में देश भर के किसान संगठनों ने भारत बंद का ऐलान किया है। वहीं छत्तीसगढ़ में कोरोना लॉकडाउन (corona lockdown )के दौरान प्रदेश के किसान ने किसान बिल के विरोध प्रदर्शन किया। शुक्रवार की सुबह से अनेक ग्रामों कस्बों में विरोध प्रदर्शन प्रारम्भ हो गया था।

देश के 100 से अधिक किसान संगठनों के साथ आज छत्तीसगढ़ ( chhattisgarh ) किसान मजदूर महासंघ समेत प्रदेश के 20 संगठनों के द्वारा प्रदेश के विभिन्न स्थानों पर किसान बिल के विरोध में प्रदर्शन जारी है। दोपहर तक प्रदेश के विभिन्न स्थानों से विरोध प्रदर्शन की सूचना आ चुकी है।

कोरोना लॉकडाउन ( corona lockdown )की वजह से सार्वजनिक स्थल पर प्रदर्शन के बजाए निजी खेतों, घरों, के सामने किसानों ने सांकेतिक विरोध किया जा रहा है। ग्राम भिलाई, आरंग, मुजगहन, रायपुर, भलेरा, परसदा जोशी, राजिम, राजनांदगांव से किसान आंदोलन की जानकारी मिली है।

प्रदेश के इन स्थानों पर जारी है प्रदर्शन

राजिम गरियाबंद जिला के ग्राम राजिम, बेलटुकरी, दूतकैय्या, परसदा जोशी, पुरैना, बिडोरा, खुटेरी, कौंदकेरा, जेन्जरा, देवरी, श्यामनगर, बरोडा, जिडार, बुढ़ार, कोनारी में प्रदर्शन जारी है ।

छत्तीसगढ़ किसान मजदूर महासंघ से संबद्ध विभिन्न संगठनों के नेताओं ने अलग अलग स्थानों में किसान बिल के विरोध में प्रदर्शन का नेतृत्व किया। भिलाई-आरंग में राष्ट्रीय किसान समन्वय समिति के सदस्य पारसनाथ साहू, परसदा जोशी में, अखिल भारतीय क्रांतिकारी किसान महासभा के तेजराम विद्रोही, मदन साहू; नया राजधानी प्रभावित किसान समिति के रूपन चंद्राकर ने परसदा, रायपुर में नदी घाटी मोर्चा के गौतम बंद्योपाध्याय, फाइट फ़ॉर राइट मूवमेंट के अनिल बघेल, कृषि वैज्ञानिक डॉ संकेत ठाकुर, ग्राम मुजगहन में उमाप्रकाश ओझा, रंजना ओझा सहित सैकड़ों लोगों ने अब तक प्रदर्शन में हिस्सा लिया।

Chhattisgarh से जुड़ी Hindi Newsके अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें 

Facebookपर Like करें, Twitterपर Follow करें  और  Youtube  पर हमें subscribe करें।

One thought on “किसान बिल के विरोध में छत्तीसगढ़ के किसानों ने उठाई आवाज

Comments are closed.