कहीं आपने भी तो नहीं रखा हुआ है साल 2020 का सबसे ख़राब Password

Tech News : आज के इस डिजिटल युग में हर व्यक्ति जानकारी प्राप्त करने के लिए कई इलेक्ट्रॉनिक और डिजिटल माध्यमों का इस्तेमाल करता है, जिसे LOGIN करने के लिए पासवर्ड की आवश्यकता होती है।

पासवर्ड मैनेजर Nordpass ने अपने वार्षिक रिपोर्ट में यह बताया की साल 2020 में 123456 सबसे अधिक इस्तेमाल किया जाने वाला पासवर्ड था।

मजेदार बात तो यह है की इस पासवर्ड को 2.3 करोड़ से ज्यादा बार हैक किया जा चूका है, और इसे हैक करने में एक सेकंड से भी कम समय लगता है।

Nordpass ने साल के 200 सबसे ख़राब पासवर्ड की लिस्ट जारी करने के साथ साथ उस पासवर्ड को क्रैक करने में कितना वक़्त लगता है और कितनी बार हैक किया गया यह भी बताया है।

सबसे ख़राब Password की लिस्ट में ‘123456′ साल 2020 में पहले नंबर में रहा, 123456789 ने दूसरा स्थान हासिल किया और तीसरे नंबर पर आने वाला पासवर्ड picture 1 है.ऐसे ही साल 2015 में सबसे ख़राब Password की रिपोर्ट में पता चला था की 123456 पहले स्थान पर था, और दुसरे नंबर पर पासवर्ड था।

Nordpass की इस साल की रिपोर्ट के अनुसार यह सामने आया है आज 5 साल बाद भी पासवर्ड इस्तेमाल करने के तरीके में कुछ ज्यादा बदलाव नहीं आया है।

इस साल भी 123456 सबसे अधिक इस्तेमाल करने वाला पासवर्ड रहा और password चौथे स्थान पर रहा।

आइये देखते है उन 20 सबसे ख़राब पासवर्ड को जो आसानी से याद होने के साथ साथ आसानी से हैक भी हो जाते है :

‘123456′,
‘123456789′,
‘picture1′,
‘password’,
‘12345678′,
‘111111′,
‘123123′,
‘12345′,
‘1234567890′,
‘senha’,
‘1234567′,
‘qwerty’,
‘abc123′,
‘Million2′,
‘000000′,
‘1234′,
‘iloveyou’,
‘aaron431′,
‘password1′
‘qqww1122′

कैटेगरीज़ के अनुसार, पासवर्ड के तौर पर सबसे अधिक इस्तेमाल किया जाने नाम ‘Aaron431’था, जिसमें 90,000 से अधिक यूज़र्स थे, जबकि ‘chocolate’ सबसे अधिक इस्तेमाल किया जाने वाला फूड नेम रहा इसे 21,409 यूज़र्स ने पासवर्ड के तौर पर इस्तेमाल किया । 37,000 से ज्यादा लोगो ने ‘pokemon’ पासवर्ड के रूप में इस्तेमाल किया था, आमतौर पर इस्तेमाल किए जाने वाले पासवर्ड की लिस्ट में ‘iloveyou’ 17वें स्थान पर रहा।

Chhattisgarh से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Twitter पर Follow करें और Youtube  पर हमें subscribe करें। एक ही क्लिक में पढ़ें  The Rural Press की सारी खबरें।