अगर राजधानी के इस इलाके में जा रहे हैं तो किसी को न बताएं पता, हो सकती है यह घटना

agar raajadhaanee ke is ilaake mein ja rahe hain to kisee ko na bataen pata, ho sakatee hai yah ghatana raayapur. raajadhaanee mein loot ka maamala saamane aaya hai.guruvaar ko khamhaaradeeh ilaake mein dinadahaade loot ko anjaam diya gaya tha. peedit gais ejensee ke mainejar ke pad mein kaam karata tha jise vigat dinon baik savaar teen badamaashon ne pata poochhane ke bahaane roka, phir unaka baig lootakar bhaag nikale. pulis ne aparaadh darj karake unakee talaash shurookar dee thee, jisake baad pulis ne raaston va chauk chauraahen ke chchtv kaimare kee phutej chek kee aur shanivaar ko aaropiyon ko giraphtaar kar liya hai. raasta poochhane ka banaaya bahana pulis ke mutaabik phaaphaadee sthit raayapur gais ejensee ka mainejar surendr paal sinh guruvaar ko apane ejensee maalik ke ghar khamhaaradeeh sthit eshvarya vidamin gae the. vahaan se 1 laakh 80 hajaar rupe lekar ejensee ke ophis jaane ke lie apanee dopahiya mein nikale. rakam baig mein rakha tha. kareeb do sau meetar door jaane par baik savaar teen yuvak pahunche. aur baik kee raphtaar dheemee karane ke baad surendr se shankar nagar jaane ka raasta poochha. saibar sel kee teem ko milee saphalata isase pahale kee surendr kuchh bataate ek yuvak unaka baig chhinane laga. vah virodh karane laga, to yuvak gaalee-galauj karate hue jhatake se baig chhin liya aur bhaag nikale. pulis ke mutaabik aaropee tejee se tarning paint kee or bhaag nikale. ghatana kee soochana milate hee eesapee shahar taarakeshvar patel, saibar sel kee teem, khamhaaradeeh thaana prabhaaree manjoolata raathaur va any log pahunche. peedit ke bayaan ke aadhaar par agyaat yuvakon ke khilaaph aparaadh darj kar unakee talaash shuroo kar dee gaee thee . bina nambar plet vaalee baik ka istemaal lutere kaaphee shaatir hain. vaaradaat mein unhonne bina nambar plet vaalee baik ka istemaal kiya hai. aaropee jis disha mein bhaage hain, pulis kee teem ne us maarg mein lage seeseeteevee kaimaron ke phutej nikaale hain. vahee jaanakaaree ke anusaar motarasaikil mein nambar plet nahin hai. ghatana se pahale rekee kee aashanka bataaya jaata hai ki peedit mainajar aksar apane maalik ke ghar se raashi lekar baink mein jama karane jaate hain. is kaaran un par pahale se luteron kee najar hone kee aashanka hai. pulis ko shak hai ki ghatana karane se pahale aaropiyon ne peedit ke aane-jaane ka samay, raasta aadi ke sambandh mein rekee kee hai. yahee vajah hai ki kolonee se nikalate hee kuchh door mein hee aaropiyon ne seedhe peedita ke kandhe par rakhe baig ko chheen liya. Show more 2054 / 5000 Translation results If you are going to this area of ​​the capital, then do not tell anyone, this incident may happen.
अगर राजधानी के इस इलाके में जा रहे हैं तो किसी को न बताएं पता, हो सकती है यह घटना

रायपुर। राजधानी में लूट का मामला सामने आया है।गुरुवार को खम्हारडीह इलाके में दिनदहाड़े लूट को अंजाम दिया गया था। पीड़ित गैस एजेंसी के मैनेजर के पद में काम करता था जिसे विगत दिनों बाइक सवार तीन बदमाशों ने पता पूछने के बहाने रोका, फिर उनका बैग लूटकर भाग निकले। पुलिस ने अपराध दर्ज करके उनकी तलाश शुरूकर दी थी, जिसके बाद पुलिस ने रास्तों व चौक चौराहें के सीसीटीवी कैमरे की फुटेज चेक की और शनिवार को आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।

रास्ता पूछने का बनाया बहाना

पुलिस के मुताबिक फाफाडीह स्थित रायपुर गैस एजेंसी का मैनेजर सुरेंद्र पाल सिंह गुरुवार को अपने एजेंसी मालिक के घर खम्हारडीह स्थित एश्वर्या विडमिन गए थे। वहां से 1 लाख 80 हजार रुपए लेकर एजेंसी के ऑफिस जाने के लिए अपनी दोपहिया में निकले। रकम बैग में रखा था। करीब दो सौ मीटर दूर जाने पर बाइक सवार तीन युवक पहुंचे। और बाइक की रफ्तार धीमी करने के बाद सुरेंद्र से शंकर नगर जाने का रास्ता पूछा।

साइबर सेल की टीम को मिली सफलता

इससे पहले की सुरेंद्र कुछ बताते एक युवक उनका बैग छिनने लगा। वह विरोध करने लगा, तो युवक गाली-गलौज करते हुए झटके से बैग छिन लिया और भाग निकले। पुलिस के मुताबिक आरोपी तेजी से टर्निंग पाइंट की ओर भाग निकले। घटना की सूचना मिलते ही एएसपी शहर तारकेश्वर पटेल, साइबर सेल की टीम, खम्हारडीह थाना प्रभारी मंजूलता राठौर व अन्य लोग पहुंचे। पीड़ित के बयान के आधार पर अज्ञात युवकों के खिलाफ अपराध दर्ज कर उनकी तलाश शुरू कर दी गई थी ।

बिना नंबर प्लेट वाली बाइक का इस्तेमाल

लुटेरे काफी शातिर हैं। वारदात में उन्होंने बिना नंबर प्लेट वाली बाइक का इस्तेमाल किया है। आरोपी जिस दिशा में भागे हैं, पुलिस की टीम ने उस मार्ग में लगे सीसीटीवी कैमरों के फुटेज निकाले हैं। वही जानकारी के अनुसार मोटरसाइकिल में नंबर प्लेट नहीं है।

घटना से पहले रेकी की आशंका

बताया जाता है कि पीड़ित मैनजर अक्सर अपने मालिक के घर से राशि लेकर बैंक में जमा करने जाते हैं। इस कारण उन पर पहले से लुटेरों की नजर होने की आशंका है। पुलिस को शक है कि घटना करने से पहले आरोपियों ने पीड़ित के आने-जाने का समय, रास्ता आदि के संबंध में रेकी की है। यही वजह है कि कॉलोनी से निकलते ही कुछ दूर में ही आरोपियों ने सीधे पीडि़त के कंधे पर रखे बैग को छीन लिया।

Hindi News के लिए जुड़ें हमारे साथ हमारे
फेसबुक, ट्विटरयूट्यूब, इंस्टाग्राम, लिंक्डइन, टेलीग्रामकू और वॉट्सएपपर