केंद्र सरकार पर भड़की आईएमए… 382 डॉक्टरों ने कोरोना के चलते गवाई जान

नई दिल्ली। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (Indian Medical Association) ने केंद्र सरकार के बयान पर नाराजगी जताई है। सरकार ने संसद में कहा था कि उसके पास कोरोना के चलते जान गंवाने वालों या वायरस से संक्रमित होने वाले डॉक्टरों (Doctors die of covid-19) व अन्य मेडिकल स्टाफ का डाटा नहीं है।

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (IMA) ने प्रेस रिलीज जारी की और कहा, ‘अगर सरकार कोरोना संक्रमित होने वाले डॉक्टर और हेल्थ केयर वर्कर (Health Worker) का डेटा नहीं रखती और यह आंकड़े नहीं रखती कि उनमें से कितनों ने अपनी जान इस वैश्विक महामारी के चलते कुर्बान की तो वह महामारी एक्ट 1897 (Epidemic act 1897) और डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट (Disaster Management Act) लागू करने का नैतिक अधिकार खो देती है। इससे इस पाखंड का का भी पर्दाफाश होता है कि एक तरफ इनको कोरोना वॉरियर कहा जाता है और दूसरी तरफ इनके और इनके परिवार को शहीद का दर्जा और फायदे देने से मना कर दिया जाता है।

एसोसिएशन (Indian Medical Association) ने आगे कहा, ‘बॉर्डर पर लड़ने वाले हमारे बहादुर सैनिक अपनी जान खतरे में डालकर दुश्मन से लड़ते हैं लेकिन कोई भी गोली अपने घर नहीं लाता और अपने परिवार के साथ साझा करता, लेकिन डॉक्टर्स और हेल्थ केयर वर्कर राष्ट्रीय कर्तव्य का पालन करते हुए ना सिर्फ खुद संक्रमित होते हैं बल्कि अपने घर लाकर परिवार और बच्चों को देते हैं।’

एसोसिएशन आगे कहती है, ‘केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे (Ashwini Kumar Choubey) ने कहा कि पब्लिक हेल्थ और हॉस्पिटल राज्यों के तहत आते हैं इसलिए इंश्योरेंस कंपनसेशन का डाटा केंद्र सरकार के पास नहीं है। यह कर्तव्य का त्याग और राष्ट्रीय नायकों का अपमान है जो अपने लोगों के साथ खड़े रहे।’ इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने उन 382 डॉक्टर की लिस्ट जारी की जिनकी जान कोरोना के चलते गई।

IMA की ये चार मांगें

  • सरकार कोरोना से मारे गए डॉक्टर्स को शहीद का दर्जा दे
  • देश की सरकार इनके परिवार को सांत्वना और मुआवजा दे
  • सरकार नर्सों व अन्य हेल्थ केयर वर्कर प्रतिनिधि से भी ऐसा डेटा ले
  • प्रधानमंत्री उचित समझें तो हमारे राष्ट्रीय अध्यक्ष को बुलाएं और उनकी चिंताएं समझें और सुझाव लें

Chhattisgarh से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Twitter पर Follow करें और Youtube  पर हमें subscribe करें। एक ही क्लिक में पढ़ें  The Rural Press की सारी खबरें।

Leave a Reply