पंचायत चुनाव: पांचवीं पास होना जरूरी नहीं,साक्षर भी लड़ सकेंगे चुनाव,प्रत्यक्ष प्रणाली से होगा निर्वाचन

रायपुर। शनिवार को सीएम हाउस में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की मौजूदगी में हुई कैबिनेट

की बैठक में पंचायत राज्य अधिनियम में बड़ा बदलाव करते हुए चुनाव में प्रत्याशी होने के

लिए 5वीं पास होने की जरूरी बाध्यता को समाप्त कर दिया गया है। अब साक्षर होना ही

पंचायत चुनाव में प्रत्याशी बनने का मापदंड होगा। वहीं पंचायत चुनाव प्रत्यक्ष प्रणाली से

कराने का निर्णय लिया गया है। कैबिनेट के फैसले पर सोमवार 25 नवंबर से शुरू होने

जा रहे छत्तीसगढ़ विधानसभा के शीतकालीन सत्र में मंजूरी के लिए रखा जाएगा।

 

कैबिनेट के एक अन्य महत्वपूर्ण फ़ैसले में प्रदेश के दिव्यांगों को पंचायत में स्थान दिया

गया है। यदि वे चुन कर नहीं भी आ पाते तो भी पंचायत में उन्हें जगह दी जाएगी। कैबिनेट

की बैठक में रायगढ़ में नंद कुमार पटेल के नाम पर विश्वविद्यालय खोले जाने को मंजूरी दी

गई है।

 

Chhattisgarh से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Twitter पर Follow करें और Youtube  पर हमें subscribe करें। एक ही क्लिक में पढ़ें  The Rural Press की सारी खबरें।