इस राज्य में स्टेट बोर्ड के छात्रों को पढ़ाया जाएगा आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का पाठ्यक्रम, 8वीं से 12वीं में कराई जाएगी स्टडी

मध्य प्रदेश। छात्र-छात्राओं को पढ़ाई के साथ-साथ स्मार्ट टेक्नोलॉजी से भी जोड़ा जाएगा. प्रदेश भर में संचालित 53 एजुकेशन फॉर ऑल (ईएफए) स्कूलों में अब एक विषय के रूप में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पढ़ाया जाएगा. कक्षा 8वीं और 9वीं के विद्यार्थियों के लिए इसी शैक्षणिक सत्र से इस विषय की शुरुआत की जा रही है. वहीं कक्षा 10वीं से 12वीं तक के विद्यार्थी को अगले सत्र से आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस को विषय के रूप में पढ़ने की सुविधा मिलेगी। प्रदेश में इसी शिक्षा सत्र से कक्षा 8वीं से लेकर 12वीं तक के छात्र-छात्राओं को आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस को विषय के रूप में चुनने की सुविधा दी जाएगी।

स्कूल शिक्षा (स्वतंत्र प्रभार) और सामान्य प्रशासन राज्य मंत्री इंदर सिंह परमार ने कहा कि प्रदेश के 53 ई.एफ.ए (एजुकेशन फॉर आल) स्कूलों में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस एक विषय के रूप में पढ़ाया जाएगा। उनका कहना है की मध्य प्रदेश में बच्चों को नई तकनीक का ज्ञान हो सके और वे सूचना प्रौद्योगिकी को बेहतर तरीके से जान सकें, इसके लिए राज्य के 53 विद्यालयों में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस एक विषय के रूप में पढ़ाया जाएगा. आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का 240 घंटे का पाठ्यक्रम तैयार किया गया है। माइक्रोसाफ्ट टीम साफ्टवेयर के माध्यम से इस विषय के लिए ऑनलाइन क्लासेस संचालित की जाएगी।

माइक्रोसॉफ्ट से हुआ करार

माइक्रोसॉफ्ट कंपनी सॉफ्टवेयर के जरिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस विषय की ऑनलाइन क्लासेस संचालित करने जा रहा है. शिक्षा मंत्री ने बताया कि, इससे विद्यार्थियों को नवीनतम तकनीक के ज्ञान के साथ भविष्य में वैश्विक स्तर पर आईटी रोजगार के अवसर भी उपलब्ध होंगे। डिजिटल ट्रांसफॉरमेशन एंड आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और ऑनलाइन एजुकेशन से संबंधित सहायता देने के लिए राज्य मुक्त स्कूल शिक्षा बोर्ड और माइक्रोसॉफ्ट के बीच करार हुआ है। इस दौरान मंत्री परमार ने कहा कि कक्षा आठवीं और नवमीं के विद्यार्थियों को इसी सत्र से तथा कक्षा 10वीं से 12वीं के बच्चों को अगले सत्र से आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस को विषय के रूप में चुनने की सुविधा मिलेगी।

सीबीएसई में हो चुका है ये पाठ्यक्रम शुरू

सीबीएसई (केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड) इसी सत्र से पाठ्यक्रम में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस को नए विषय के तौर पर शामिल कर चुका है। सीबीएसई ने आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का पाठ्यक्रम भी तैयार कर लिया है। सीबीएससई बोर्ड के बाद अब एमपी बोर्ड के कक्षा आठवीं और कक्षा बारहवीं तक के छात्र-छात्राएं आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस सब्जेक्ट को पढ़ने जा रहे है।

फेसबुक, ट्विटरयूट्यूब, इंस्टाग्राम, लिंक्डइन, टेलीग्रामकू और वॉट्सएपपर