राज्य महिला आयोग की सदस्य के बिगड़े बोल: लड़कियों को न दें मोबाइल, घंटों बातें करती रहती हैं… फिर भाग जाती हैं

राज्य महिला आयोग की सदस्य के बिगड़े बोल: लड़कियों को न दें मोबाइल, घंटों बातें करती रहती हैं... फिर भाग जाती हैं

टीआरपी डेस्क। अलीगढ़ में उत्तर प्रदेश राज्य महिला आयोग की सदस्य मीना कुमारी ने लोक निर्माण अतिथि गृह में महिला उत्पीड़न संबंधी शिकायतों को सुनने के दौरान मीडिया के समक्ष लड़कियों को लेकर विवादित बयान दे डाला। उन्होंने लगातार लड़कियों के साथ हो रही घटनाओं का जिम्मेदार लड़कियों को मोबाइल पर बात करना और लड़कियों की मांओं व परिवार को ठहरा दिया है।

मीना कुमारी ने अपने बयान में कहा है कि समाज में इस तरह के केस नहीं रुक रहे हैं। हम लोगों के साथ-साथ समाज के लोगों को भी इसमें पैरवी करनी पड़ेगी। अपनी बेटियों को भी देखना होगा। वह कहां जा रही हैं? क्या कर रही है और किस लड़के के साथ बैठ रही है? उनके मोबाइल को भी देखना होगा।

मैं सभी को यह बोलती हूं, लड़कियां मोबाइल से घंटों बातें करती रहती है। मैटर यहां तक पहुंच जाता है कि जिससे बात कर रही है उसके साथ भाग जाती है। अभी एक वाकया मेरे पास आया है जिसमें एक वाल्मीकि की लड़की है और जाटव का लड़का है। मेरा ससुराल है बालमपुर, कल वहां से लोग मेरे पास आए और बताया कि लड़की-लड़के ने शादी करके अपनी फोटो सोशल मीडिया पर डाल दी है।

अब गांव के लोग पंचायत कर रहे हैं और कह रहे हैं कि हम उन्हें घर में घुसने नहीं देंगे। मेरी अपील है कि घर वाले अपनी बेटियों को मोबाइल ना दें, अगर दे रहे हैं तो उस पर पूरी निगाह रखें। सबसे पहले उन मांओं को कहती हूं कि वह अपनी बेटियों का ध्यान रखें। यह सब मां की लापरवाही की वजह से होता है।

हालांकि मीना कुमारी के बयान पर कई लोगों ने आपत्ति की है। उनका कहना है कि मोबाइल का जमाना है। सबकुछ ऑनलाइन हो रहा है। पढ़ाई-लिखाई से लेकर खरीदारी तक सब कुछ मोबाइल से ही हो रहा है, ऐसे में मोबाइल पर रोक लगा देने से कैसे काम चलेगा।

Hindi News के लिए जुड़ें हमारे साथ हमारे फेसबुक, ट्विटरटेलीग्राम और वॉट्सएप पर