5 सौ का नोट चपरासी को थमाओ, नकल प्रिंसिपल साहब कराएंगे

 
लोहंडीगुड़ा शासकीय हाई स्कूल, जहां टीचिंग तो नहीं होती मगर चीटिंग ईमानदारी से -अवधेश शर्मा जगदलपुर। जिले के लोहंडीगुड़ा के शासकीय हाई स्कूल को परीक्षा केंद्र से ज्यादा वसूली केंद्र बन गया है। ये परीक्षा केंद्र को चपरासी संभाल रहा है, और प्रिंसिपल छात्र-छात्राओं को नकल कराने में व्यस्त हैं। यहां तो बस एक ही फार्मूला चलता है, 5 सौ का नोट चपरासी को पकड़ाओ और परीक्षा केंद्र के अंदर जाओ। नकल प्रिंसिपल साहब कराएंगे। यहां के स्टॉफ ने टीचिंग में साल भर ईमानदारी की हो या नहीं, मगर चीटिंग में पूरी ईमानदारी होती है। परीक्षा केंद्र से बड़ी तादाद में पुस्तकें भी बरामद हुई। परीक्षार्थियों ने कहा कि उनसे पर्चा शुरू होने के पहले ही 5 सौ रुपए ले लिए जाते हैं। इस पैसे की वसूली चपरासी करता है। तो वहीं चपरासी ने माना कि वो पैसों की वसूली प्रिंसिपल के कहने पर करता है। तो वहीं लोग दबी जुबान से इसमें बीओ चंद्रशेखर यादव की भी भूमिका बता रहे हैं। तो वहीं शिक्षा मंत्री प्रेमसाय टेकाम मामले को पता कर उस पर कार्रवाई करने का भरोसा दे रहे हैं। ऐसे में देखना ये होगा कि इस मामले पर क्या कार्रवाई होती है।
कैसे हो रही थी चीटिंग: टीआरपी की टीम जब केंद्र में पहुंची तो यहां परीक्षा का संचालन चपरासी कर रहे थे। प्रिंसिपल गोवर्धन बघेल खुद एक कक्ष में चीटिंग करवाते दिखे। यहां पहुंची मीडिया की टीम के कैमरे के सामने चीटिंग कर रहे विद्यार्थियों की टेबल से पुस्तकें निकलीं। परीक्षार्थियों ने साफ कहा कि सभी विद्यार्थी प्रत्येक पर्चे के लिए 500 प्रिंसिपल को दे रहे हैं, जिससे उन्हें चीटिंग करने की आजादी मिल रही है। परीक्षा केंद्र 100 से अधिक पुस्तकें निकली, जिससे यह साफ जाहिर हो रहा है कि किस तरह शिक्षा के नाम पर जमकर वसूली हो रही है। तो वहीं प्राचार्य भागीरथी बघेल ने कहा कि उनको इस मामले में कुछ नहीं पता,ये उनको बदनाम करने की साजिश है। मीडिया कर्मियों के पहुंचने के बाद सारा का सारा स्टाफ केंद्र से भाग निकला। इस केंद्र में 246 बच्चे परीक्षा दे रहे हैं। क्षेत्रीय विधायक को भी नहीं पता: इस मामले में लोहंडीगुड़ा के विधायक दीपक बैज ने कहा कि वे तो अभी -अभी बाहर से आए हैं। उनको इस मामले में कुछ भी पता नहीं है। पहले पता लगा लें फिर कार्रवाई करते हैं।
  Chhattisgarh से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें  Facebook पर Like करें, Twitter पर Follow करें  और Youtube  पर हमें subscribe करें।
Back to top button