केवल एक साल ही काम करेगी कोरोना वैक्सीन, अगले साल दोबारा लगवाना होगा टीका : डॉ. सुभाष मिश्रा

रायपुर। छत्तीसगढ़ में जारी कोरोना वायरस के बीच छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य विभाग में कोरोना संबंध मामलों के प्रवक्ता और एपिडेमिक कंट्रोल के संचालक डॉ. सुभाष मिश्रा ने कोरोना वैक्सीन की प्रभावकारिता पर बड़ा दावा किया है। उन्होंने कहा, कोरोना की यह वैक्सीन केवल एक साल ही काम करेगी। अगले वर्ष से दोबारा वैक्सीन लगानी होगी।

वर्चुअल प्रेस कान्फ्रेंस में डॉ. सुभाष मिश्रा ने कहा, यह आधिकारिक जानकारी है कि कोरोना की वैक्सीन केवल एक साल तक ही प्रभावी रहेगी। उसके बाद सुरक्षा हासिल करने के लिए दोबारा वैक्सीन लगाना पड़ेगा। उन्होंने कहा, यह जानकारी वैक्सीन निर्माता कंपनियों ने ही दी है। इसमें कोई दो राय नहीं बची है।

उन्होंने कहा, कोरोना की यह बीमारी नई है। इसलिए इससे बचाव की 100 प्रतिशत प्रभावी कोई दवा नहीं है। न ही कोई डॉक्टर इसको पूरी तरह समझ जाने का दावा कर सकता है। जैसे- जैसे समय बीत रहा है डॉक्टरों को बीमारी की समझ बढ़ रही है। ऐसे में इलाज के नए प्रोटोकाल विकसित हो रहे हैं। फिलहाल टीकाकरण और सावधानी ही इससे बचाव के सबसे बेहतर उपाय हैं।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहीं ये बात…

वहीं केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने इसी सवाल के जवाब में अलग दावा किया है। मंत्रालय की वेबसाइट पर मौजूद जवाब के मुताबिक जब किसी वैक्सीन को आपात इस्तेमाल की मंजूरी मिलती है, तो वैक्सीन से मिली सुरक्षा अवधि का आकलन करने के लिए ट्रायल फॉलोअप अगले दो-तीन सालों तक जारी रहता है। कोविड-19 वैक्सीन के लिए ऐसी ही अनुमति दी गई है। मतलब मंत्रालय अभी प्रभावकारिता को लेकर कोई दावा करने की स्थिति में नहीं है।

Hindi News के लिए जुड़ें हमारे साथ हमारे फेसबुक, ट्विटरटेलीग्राम और वॉट्सएप पर

Back to top button