विशेष पहल : चरामेति फाउंडेशन परंपरा सतत जारी, 51 पौधों के साथ बेटियां हुई विदा
विशेष पहल : चरामेति फाउंडेशन परंपरा सतत जारी, 51 पौधों के साथ बेटियां हुई विदा

रायपुर। चरामेति फाउंडेशन की जितनी तारीफ की जाए उतनी कम है। बेटियों को दहेज में पौधे देने की चरामेति फाउंडेशन की परंपरा (चरामेति वृक्ष सेवा विश्व सेवा अभियान) सतत जारी है।

चरामेति फाउंडेशन के सदस्य पर्वतारोही हेमंत गणेश्वर और राजेश साहू की बहनों नीलिमा गणेश्वर और नीतू साहू का विवाह 1 जुलाई को हुआ। इसमें चरामेति फाउंडेशन की परंपरानुसार 51 पौधे बेटियों को दहेज में देकर विदा किया गया।

2017 को शुरू किया गया था वृक्ष सेवा विश्व सेवा अभियान

चरामेति फाउंडेशन के अध्यक्ष प्रशांत महतो ने बताया कि 2015 से कार्यरत चरामेति फाउंडेशन में इस परंपरा की शुरुआत 10 नवंबर 2017 को वृक्ष सेवा विश्व सेवा अभियान के रूप में की गई थी। इसके तहत आज 59 से अधिक विवाहों में और सैकड़ों कार्यक्रमों में भेंट स्वरूप पौधे दिए गए हैं। कटघोरा विधायक पुरुषोत्तम कंवर ने कहा कि चरामेति फाउंडेशन सबसे अनमोल उपहार देने का कार्य कर रही है। सदियों तक इस उपहार से ऑक्सीजन और फल जनमानस को मिलता रहेगा।

अध्यक्ष प्रशांत महतो और महासचिव राजेंद्र ओझा ने बताया कि गिफ्ट और अन्य सामग्री कुछ समय बाद खराब हो जाते हैं,लेकिन वृक्ष से मिला ऑक्सीजन युगों तक ऑक्सीजन के रूप में अपना आशीर्वाद देता रहेगा। इसी सोच के साथ हम हर कार्यक्रम में भेंट स्वरूप पौधे ही देते हैं। इस वर्ष फाउंडेशन की ओर से हर वर्ष की भांति वृहद रूप में पौधरोपण किया जाएगा।

मनीषा महतो के विवाह से शुरू हुआ दहेज में पौधे देने की प्रथा

उन्होंने बताया कि दहेज में पौधे देने की प्रथा की शुरुआत अप्रैल 2018 में प्रशांत महतो की बहन मनीषा महतो के विवाह से हुई थी। इसके बाद अनेकों विवाह में कार्यकर्ताओं ने पौधे दहेज में दिए हैं।

कार्यक्रम दीपका में व बल्गी जिला कोरबा में हुआ। इस मौके पर कटघोरा विधायक पुरुषोत्तम कंवर,विशाल शुक्ला, चरामेति फाउंडेशन के अध्यक्ष प्रशांत महतो , पर्वतारोही हेमंत गणेश्वर,राजेश साहू,अरविंद सोनी, सुशांत टोप्पो, गिरीश राठौर, जितेंद्र यादव,निशा महतो, वृषभानु महतो, अर्चना साहू, पवन ठाकुर एवं अन्य साथी उपस्थित थे।

Hindi News के लिए जुड़ें हमारे साथ हमारे फेसबुक, ट्विटरटेलीग्राम और वॉट्सएप पर

Trusted by https://ethereumcode.net