Breaking News : जीवन खतरें में, राजधानी में प्रदूषण का टूटा पांच साल का रिकॉर्ड, देखें डाटा

टीआरपी डेस्क। राजधानी और एनसीआर में दीवाली के मौके पर खूब आतिशबाजी हुई, जिसके बाद वायु गुणवक्ता गंभीर श्रेणी में पहुंच गई। शनिवार सुबह-सुबह अधिकांश इलाके प्रदूषण की चादर में लिपटे नजर आए। जरुरी बात यह है की दिल्ली में इस प्रदूषण से विगत पांच साल का रिकॉर्ड टूट गया है।

जहां वायु गुणवत्ता 400 से ऊपर है जो काफी खतरनाक माना जाता है। इसके बावजूद दिल्ली सरकार ने बढ़ते प्रदूषण के लिए पटाखों और पराली जलाने को जिम्मेदार ठहराया है। वहीं अब बीजेपी ने इस पर पलटवार करते हुए गोपाल राय पर कहा कि अरविंद केजरीवाल सरकार वायु प्रदूषण को काबू करने में नाकाम रही है। वहीं मौसम विभाग की मानें तो फिलहाल प्रदूषण का संकट मंडराता रहेगा।

बीजेपी आईटी विभाग के राष्ट्रीय प्रभारी अमित मालवीय ने कहा कि राय दिल्ली में ‘खतरनाक’ वायु गुणवत्ता की पृष्ठभूमि में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को अच्छा दिखाने की कोशिश कर रहे हैं। मालवीय ने ट्वीट किया, ‘ पटाखे जलाये जाने से पहले ही दिल्ली का वायु गुणवत्ता सूचकांक खतरनाक स्तर पर पहुंच चुका था। अन्यथा सुझाव दे रहे लोग अरविंद केजरीवाल को अच्छा दिखाने का प्रयास कर रहे हैं, जिन्होंने दिल्ली वालों को पटाखे जलाने से रोकने के लिए एक द्वेषपूर्ण अभियान चलाया था।

खतरनाक स्तर पर पहुंचा प्रदूषण

वायु गुणवत्ता और मौसम पूर्वानुमान तथा अनुसंधान प्रणाली के मुताबिक, दिल्ली की समग्र वायु गुणवत्ता ‘गंभीर’ श्रेणी में बनी हुई है, समग्र वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 533 पर है। दिल्ली से वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) – कनॉट प्लेस में पीएम10 654 पर, पीएम 2.5 628 पर; PM10 382 पर और PM2.5 341 पर बना हुआ है। दिल्ली की बात करें तो आईजीआई एयरपोर्ट के पास अभी AQI 429, बवाना इलाके में 459, आईटीओ में 463, नजफगढ़ 433, पंजाबी बाग 466, आनंद विहार 470, दिलशाद गार्डन में एक्यूआई 436 दर्ज किया गया।

पांच साल का रिकॉर्ड टूटा

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के आंकड़ों के मुताबिक, दिवाली के अगले दिन दिल्ली में पिछले पांच साल में सबसे खराब वायु गुणवत्ता दर्ज की गई। पटाखे फोड़े जाने और पराली जलाए जाने की घटनाओं के चलते औसत वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 450 दर्ज किया गया। यह पिछले पांच वर्षों में सबसे अधिक है। विशेषज्ञों का कहना है कि हरित दिवाली मनाने को लेकर समझ का अभाव इसके बड़े कारणों में एक है क्योंकि लोग मानते हैं कि त्योहार और पटाखे एक दूसरे के पूरक हैं।

पटाखों पर रोक

गौरतलब है कि त्योहारों से पहले दिल्ली सरकार ने एक जनवरी 2022 तक पटाखों पर पूर्ण रोक लगा दी थी और इनकी बिक्री और इस्तेमाल के खिलाफ आक्रामक तरीके से प्रचार अभियान शुरू किया था। विशेषज्ञों ने हालांकि माना कि इस मौसम में प्रदूषण के अन्य कारकों को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता। स्काईमेट वेदर में मौसम विज्ञान और जलवायु परिवर्तन के उपाध्यक्ष महेश पालावत ने तापमान में गिरावट और हवा की गति में आई कमी को शहर के प्रदूषण के लिए जिम्मेदार ठहराया।

Hindi News के लिए जुड़ें हमारे साथ हमारे
फेसबुक, ट्विटरयूट्यूब, इंस्टाग्राम, लिंक्डइन, टेलीग्रामकू और वॉट्सएप, पर

Back to top button