बॉर्डर पर पाकिस्तानी गतिविधियों पर अंकुश लगाने केन्द्रीय दूरसंचार विभाग ने शुरू किया ये स्पेशल ऑपरेशन

TRP DESK : भारत पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय सीमा पर पाकिस्तान की तरफ से होने वाली गतिविधियों पर रोक लगाने के उद्देश्य से केंद्रीय दूरसंचार विभाग ने एक नया ऑपरेशन शुरू किया है।

सीमा पार पाकिस्तान की ओर से होने वाली गैर कानूनी गतिविधियों को ट्रैक करने के लिए दूरसंचार विभाग बॉर्डर के आसपास के नेटवर्क पर पैनी नजर बनाए हुए हैं। पाकिस्तान से जुड़ी अंतरराष्ट्रीय सीमा के गैर कानूनी गतिविधियों में लिप्त लोगों की धरपकड़ के लिए केंद्रीय जांच एजेंसी के माध्यम से उन्हें सलाखों के पीछे भेजने की तैयारी शुरू कर दी गई है।

दरअसल भारत के राजस्थान राज्य के जैसलमेर बाड़मेर श्रीगंगानगर बीकानेर जिलों की सीमा से पाकिस्तान जुड़ा हुआ है। इन चारों जिलों की सीमा के आसपास सभी दूरसंचार कंपनियों की उपभोक्ताओं की दूरसंचार सेवा की जांच विभाग द्वारा की गई। जांच में विभाग ने पाया कि इन जिलों के कई जगहों पर पाकिस्तान के मोबाइल टावरों के सिग्नल पहुंच रहे हैं। जिस पर विभाग को यहाँ सीमापार से एंटी नेशनल गतिविधियों के संचालित होने की सम्भावना है।

पाकिस्तानी मोबाइल टावर के नेटवर्क पर लगेगा अंकुश

दूरसंचार विभाग के क्षेत्रीय उप महानिदेशक सिद्धार्थ पोकरणा ने बताया है की चारों जिलों की सीमाओं में पाकिस्तान मोबाइल टावरों के नेटवर्क की गतिविधियों पर अंकुश लगाया जा रहा है। इसके लिए सीमा के आस-पास पाकिस्तान की सिम बेचने वाले, सोशल मीडिया, इंटरनेट कॉल्स और ई-मेल भेजने वालों की धरपकड़ शुरू की जा रही है। आम लोगों को भी इस तरह की गतिविधियों से दूर रहने की हिदायत दी जा रही है।

इंडियन टेलीग्राफ एक्ट के तहत होगी कार्यवाही

बहरहाल दूरसंचार विभाग के विशेष ऑपरेशन में बॉर्डर पार से होने वाली राष्ट्र विरोधी गतिविधियों के साथ साथ तस्करों के मामलों पर अंकुश लगाने की कोशिश की जा रही है। बॉर्डर पार से आने वाले मोबाइल सिग्नल के साथ साथ पाकिस्तान की सिम बेचनेवाले एवं पाक मोबाइल नेटवर्क का इस्तेमाल करने वालों पर खुफिया एजेंसियां सख्त हो गई हैं। दूरसंचार विभाग राष्ट्र विरोधी गतिविधियों में शामिल लोगों के खिलाफ इंडियन टेलीग्राफ एक्ट के तहत कार्रवाई करेगा। इसके साथ ही सुरक्षा एजेसियां ऐसे लोगों के खिलाफ राष्ट्र विरोधी गतिविधियों की धाराओं के तहत शिकंजा कस सकेंगी।

Hindi News के लिए जुड़ें हमारे साथ हमारे
फेसबुक, ट्विटरयूट्यूब, इंस्टाग्राम, लिंक्डइन, टेलीग्रामकू और वॉट्सएप, पर

Back to top button