रोड रेज केस: पटियाला जेल में क्लर्क बने गुरु, फाइलें देखने का काम सौंपा गया, 3 महीने तक नहीं मिलेगा वेतन

चंडीगढ़ रोड रेज केस (Road Rage Case) में प​टियाला सेंट्रल जेल( Patiala Central Jail) में एक साल की बामशक्कत सजा काट रहे क्रिकेटर और पॉलिटिशियन रहे नवजोत सिद्धू (Navjot Sidhu, will do clerical work) को क्लर्क का काम सौंपा गया है।

अभी बैरक में ही काम करेंगे सिद्धू

Road rage case: Guru became a clerk in Patiala Jail, tasked to see files, salary will not be available for 3 months

सिद्धू की सुरक्षा को देखते हुए वह जेल दफ्तर का काम बैरक से ही करेंगे। सिद्धू को रोजाना जेल दफ्तर की फाइलें भिजवाई जाएंगी। उनकी ड्यूटी सुबह 9 से शाम 5 बजे तक होगी। इस दौरान वह कभी भी फाइलों का काम कर सकते हैं।

3 महीने नहीं मिलेगा वेतन

जेल मेन्युअल के अनुसार सिद्धू को अभी काम के बदले कोई वेतन नहीं मिलेगा। सिद्धू को लिपिक कार्य का अनुभव नहीं है। वह अकुशल कर्मचारी हैं। 3 महीने बाद उन्हें अर्धकुशल होने पर 30 रुपए प्रतिदिन और फिर कुशल होने पर 90 रुपए दिए जाएंगे।

इधर पटियाला सेंट्रल जेल के सुपरिटेंडेंट मनजीत सिंह टिवाणा ने कहा कि सिद्धू पढ़े-लिखे हैं, इसलिए उन्हें दफ्तर का लिपिकीय कामकाज सौंपा गया है। उनकी सुरक्षा का भी ध्यान रखा गया है। सिद्धू जेल में पूरा सहयोग कर रहे हैं।

Back to top button