आग की लपटों से घिरी केंद्र की अग्निपथ योजना-विरोध में उतरे युवाओं ने ट्रेन में लगाई आग  

नई दिल्ली। अग्निपथ योजना अपने तरह की पहली योजना है जिसके तहत चार साल के लिए सैनिकों की भर्ती की जाएगी । चार साल बाद इन अग्निवीरों की नौकर खत्म हो जाएगी। इसी बात की चिंता युवाओं को सताने लगी है और  अग्निपथ योजना के खिलाफ आंदोलन छेड़ दिए हैं । विरोध में सड़क पर उतरे  युवाओं ने  बिहार से राजस्थान तक विरोध प्रदर्शन कर ट्रेन में आग लगा दी।

यह भी पढ़ें
राहुल के रेस्क्यू ऑपरेशन में शामिल टीमों का मुख्यमंत्री ने किया सम्मान  

सेना में भर्ती के लिए सरकार की ओर से घोषित की गई अग्निपथ स्कीम का तीव्र विरोध देश के राज्यों में शुरू हो गया है। बिहार के कई जिलों में छात्रों ने इसके खिलाफ मोर्चा खोल दिया। मुंगेर, कैमूर, सहरसा, छपरा समेत कई जिलों में छात्र विरोध के लिए उतरे हैं।

कैमूर में छात्रों ने इंटरसिटी एक्सप्रेस को आग के हवाले कर दिया तो कई जगहों पर सड़क जाम कर टायरों में आग लगाकर प्रदर्शन कर रहे हैं। इसके अलावा दिल्ली-जयपुर हाईवे को भी छात्रों ने राजस्थान में जाम कर दिया है। यूपी के बरेली में सेना की तैयारी कर रहे युवाओं ने विरोध प्रदर्शन शुरू किया है। बिहार से शुरू इस आंदोलन की आग देश के अलग-अलग राज्यों में फैल रही है।

सेना में भर्ती के लिए लॉन्च की गई अग्निपथ स्कीम पर आगे बढ़ना सरकार के लिए भी ‘अग्निपथ’ साबित हो सकता है। बिहार से लेकर राजस्थान तक में युवा सड़कों पर उतर आए हैं और इस स्कीम का विरोध कर रहे हैं। इसके अलावा विपक्षी दलों, कैप्टन अमरिंदर सिंह और वरुण गांधी जैसे नेताओं ने भी इस योजना पर सवाल खड़े किए हैं।

बिहार में लगातार दूसरे दिन इस स्कीम के खिलाफ आंदोलन हो रहा है। मुंगेर, सहरसा, छपरा और मुजफ्फरपुर जैसे जिलों में युवा सड़कों पर उतर आए हैं। कहीं रेल की पटरियों पर बैठे हुए हैं तो कहीं टायरों में आग लगाकर प्रदर्शन किया जा रहा है। वरुण गांधी ने इस स्कीम को लेकर सरकार का पक्ष साफ करने की मांग करते हुए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को पत्र लिखा है।

Hindi News के लिए जुड़ें हमारे साथ हमारे
फेसबुक, ट्विटरयूट्यूब, इंस्टाग्राम, लिंक्डइन, टेलीग्रामकू और वॉट्सएप, पर

Back to top button