बिग ब्रेकिंग : लकड़ी से AK-47 बनाया और खुद को नक्सली बता करने लगे लूटपाट, पुलिस ने गिरोह का किया पर्दाफाश

दंतेवाड़ा। पिछले कुछ दिनों से दंतेवाड़ा जिले के विभिन्न थाना क्षेत्रो में लूटपाट की वारदातों से परेशान पुलिस ने खोजबीन शुरू की तो पूरा गिरोह पकड़ में आ गया। गिरोह में शामिल युवकों ने लकड़ी से नकली AK-47 बंदूक तैयार किया, जिसे दिखाकर वे खुद को नक्सली बताते और लूटपाट करते थे। इस गिरोह ने सरपंच, सचिव के अलावा बसों में भी लूटपाट की वारदातें की थी।

पुलिस के मुताबिक दंतेवाड़ा के थाना कुआकोंडा के अंतर्गत ग्राम पंचायत हल्बारास के सचिव सुखमन यादव और मोखपाल पंचायत के सरपंच विनोद सोरी ने थाने में आकर शिकायत दर्ज कराई थी कि बीते 24 मई और 8 जून को कुछ हथियारबंद युवकों द्वारा रात के अंधेरे में धावा बोलकर खुद को नक्सली बताकर उनसे लूटपाट की गई।

इस तरह की लगभग आधा दर्जन वारदातों की जानकारी पुलिस के संज्ञान में आयी, जिसके बाद दंतेवाड़ा जिले के सभी थानाक्षेत्रों ने चिन्हित बदमाशों और अपराधियों से पूछताछ की गई। इस दौरान लूट के एक संदेही भूषण मरकाम से कड़ाई से पूछताछ की गई, तब उसने अपने साथी लखन, दीपक, अनंत और अन्य युवकों के साथ मिलकर लूटपाट की वारदातों को अंजाम देना बताया। पूछताछ में पता चला कि इस गिरोह ने सरपंच, सचिव और अन्य ग्रामीणों के अलावा 2 बसों में भी लूटपाट की थी।

असली की तरह बनाये नकली हथियार

युवकों के इस गिरोह ने लकड़ी से असली की तरह नजर आनेवाले AK-47 हथियार बनाये और उसे पुलिस पोच (मैगजीन होल्डर) तथा काला गमछा से कवर करके लोगों को धमकाया करते थे। इसके अलावा इन्होंने नकली वायरलेस भी बनाकर रखा हुआ था। पुलिस ने इस गिरोह के कुल 6 आरोपियों को गिरफ्तार किया और उनके पास से मोबाइल, मोटरसायकल, केमोफ्लाइज शर्ट, 4 नाग नकली हथियार और वायरलेस तथा नकदी रकम की बरामदगी की। इन सभी को न्यायालय में पेश करते हुए जेल भेज दिया गया।

Hindi News के लिए जुड़ें हमारे साथ हमारे
फेसबुक, ट्विटरयूट्यूब, इंस्टाग्राम, लिंक्डइन, टेलीग्रामकू और वॉट्सएप, पर

Back to top button