गोबर की रिकॉर्ड खरीदी पर महिला समूह और किसानों ने मुख्यमंत्री को उपहार में दिया “गाय-बछड़ा”

रायपुर। राज्य की सबसे प्रभावशाली ग्रामीण आर्थिक नीतियों में से एक “छत्तीसगढ़ गोधन न्याय योजना” के अंतर्गत राज्य सरकार द्वारा रिकॉर्ड 144 करोड़ रुपये से अधिक की गोबर खरीदी करने पर, आज गौ-पालक महिलाओं और किसानों ने मुख्यमंत्री निवास पहुंचकर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का आभार व्यक्त किया और एक “गाय-बछड़ा” आशीर्वाद स्वरुप मुख्यमंत्री को भेंट किया। इस दौरान भावुक हो गए मुख्यमंत्री ने गाय-बछड़े की आरती उतारी।

आर्थिक समृद्धि ‘छत्तीसगढ़ मॉडल’ का उद्देश्य

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इस मौके पर कहा कि छत्तीसगढ़ के गाँव, गरीब, किसानों और महिलाओं के जीवन में आर्थिक समृद्धि और ख़ुशी ही “छत्तीसगढ़ मॉडल” का मूल उद्देश्य है। मुख्यमंत्री ने कहा कि वो तीन करोड़ छत्तीसगढ़वासियों के परिवार के सदस्य हैं और परिवार की ख़ुशी में ही उनकी ख़ुशी है”।

गौपालकों की बढ़ गई संख्या

छत्तीसगढ़ गृह निर्माण मंडल के डायरेक्टर विनोद तिवारी की अगुवाई में हुए इस कार्यक्रम में “गोधन न्याय योजना” के “लाभार्थी मुख्यमंत्री से मिलने आये थे। छत्तीसगढ़ “गोधन न्याय योजना” से अब तक प्रदेश के लगभग 2 करोड़ से ज्यादा लोग लाभान्वित हुए हैं । वहीं प्रदेश में गौपालकों की संख्या में 28 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज हुई है, केवल एक वर्ष के अंदर गौपालकों की संख्या 1,65,521 से बढ़कर 2,11,540 हो गई है। गौपालकों की संख्या में वृद्धि, ग्रामीण स्तर पर निरंतर हो रही आर्थिक उन्नति का प्रमाण है। राज्य में 8837 गोबर संग्रह केंद्र स्थापित किये गए हैं, ताकि लोगों को उनके गांव में ही गोबर बेचने में आसानी हो।

महिला समूह ने गौठान के उत्पाद भी भेंट की

मुख्यमंत्री और लाभान्वित गौ-पालक महिला समूह और किसानों के बीच हुई भेंट के दौरान जो भावुकता और आत्मीयता देखने को मिली, वही “गोधन न्याय योजना” की सफलता का पर्याय है। इस मौके पर महिला समूह की बहनों द्वारा गौठान में उगाई हुई सब्ज़ी-भाजी, अगरबत्ती, पापड़ और मसाले भी मुख्यमंत्री को भेंट की गई।

Hindi News के लिए जुड़ें हमारे साथ हमारे
फेसबुक, ट्विटरयूट्यूब, इंस्टाग्राम, लिंक्डइन, टेलीग्रामकू और वॉट्सएप, पर

Back to top button