सीएम मामता बनर्जी ने शिंजो आबे हत्याकांड को अग्निपथ योजना से जोड़ा

कोलकाता। पश्चिमबंगाल की मुख्यमंत्री ममता मनर्जी ने आज फिर एक विवादित बयान देकर सुर्खियों में आ गई है। केंद्र की मोदी सरकार के नेतृत्व पर लगातार हमला बोलने वाली ममता बनर्जी ने केंद्र सरकार द्वारा हाल ही में युवाओं के लिए सेना भर्ती के लिए लांच की गई अग्निपथ भर्ती योजना को लेकर फिर सवाल खड़े किए हैं।

तृणमूल कांग्रेस के मुखपत्र ‘जागो बांग्ला’ ने अपने बंगाली लेख ‘शिज़ो की हत्या में अग्निपथ छाया’ शीर्षक से भारत में रक्षा भर्ती के लिए नई शुरू की गई अग्निपथ योजना के साथ पूर्व जापानी प्रधानमंत्री शिंजो आबे की हत्या को जोड़ा है। लेख में कहा गया है कि शिंजो आबे की हत्या भारत की अग्निपथ योजना के खिलाफ प्रतिरोध को मजबूत करेगी क्योंकि आबे की हत्या करने वाले व्यक्ति ने बिना पेंशन के तहत सेना में काम किया था।


मुखपत्र में लिखा गया है यह महत्वपूर्ण है कि केंद्र सरकार भी उसी तरह को लोगों की सेना में भर्ती करने की कोशिश कर रहा है, जिससे पूरे देश में बड़े पैमाने पर हलचल हुई है। इस योजना के तहत लोग केवल 4.5 साल तक नौकरी में रहेंगे। कोई पेंशन नहीं होगी और रिटायरमेंट के बाद अन्य लाभ भी नहीं मिलेगा।


शुक्रवार को एक चौंकाने वाली घटना में शिंजो आबे को 41 वर्षीय तेत्सुया यामागामी ने गोली मार दी थी। अबे नारा शहर में भाषण दे रहे थे। कुछ घंटों के बाद पूर्व प्रधानमंत्री को मृत घोषित कर दिया गया।


दुनिया ने शिंजो आबे की मौत पर शोक व्यक्त किया है। पुलिस ने 41 वर्षीय व्यक्ति को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने दावा किया है कि उसने आबे को हाथ से बने कट्टे से मारा है। जापानी मीडिया के अनुसार, यामागामी ने मौके से भागने का प्रयास नहीं किया। उसने जांचकर्ताओं को बताया कि वह आबे से असंतुष्ट था और उसे मारना चाहता था। हालांकि वह आबे की राजनीतिक मान्यताओं से नाराज नहीं था। 

Back to top button