सीजी ब्रेकिंगः राजधानी से सटे 17 गांवों की जमीनों की खरीदी-बिक्री, बटांकन और डायवर्सन पर लगीं रोक

रायपुर। कलेक्टर डॉ. सर्वेश्वर भूरे ने अधिकारियों को निर्देशित कर राजधानी के करीबी 17 गांवों की जमीनों की खरीदी-बिक्री, बटांकन और डायवर्सन पर रोक लगा दी है।


इसके लिए अभनपुर और आरंग दोनों अनुभागों के सत्रह गांवों की जमीन भारतमाला प्रोजेक्ट राष्ट्रीय राजमार्ग 53 के लिए अधिग्रहण की प्रक्रिया शुरू होगी। परियोजना से प्रभावित सत्रह गांव में अनुभाग अभनपुर अंतर्गत बकतरा, विरोदा, भेलवाडीह, डोमा, झाकी, केन्द्री, खट्टी, कोलर, कुर्रू, मोखेतरा, नवागांव, पचेड़ा, पलौद, परसदा, तर्रा, टेकारी, डगेतरा तथा अनुभाग आरंग अंतर्गत अकोलीकला व लिंगाडीह शामिल हैं।

मुम्बई-कोलकाता इकोनॉमिक कॉरीडोर के लिए जमीन अधिग्रहण की तैयारी

बता दें कि भारतमाला प्रोजेक्ट के तहत मुम्बई-कोलकाता इकोनॉमिक कॉरीडोर सड़क पर दुर्ग-रायपुर बाईपास सड़क का निर्माण किया जाना है। चार और छह लेन की यह सड़क छत्तीसगढ़ में कुल 92.230 कि.मी. लम्बाई की होगी।

यह सड़क राजनांदगांव जिले के टेडेसरा गांव से शुरू होकर रायपुर जिले के पारागांव में समाप्त होगी। रायपुर जिले में सड़क की कुल लम्बाई 48.73 कि.मी. होगी। इस सड़क में अभनपुर अनुभाग के 17 और आरंग संभाग के 2 गांवों की भूमि का अर्जन किए जाना प्रस्तावित है।

Back to top button