NRI सेल समन्वयक की नियुक्ति पर ‘नाचा’ ने जताई आपत्ति, पत्र लिख कर की पुनर्विचार की अपील

रायपुर। हाल के दिनों में मुख्यमंत्री द्वारा अप्रवासी भारतीय समन्वयकों की नियुक्ति की गयी। इन नियुक्तियों पर आपत्ति जताते हुए नाचा (NACHA) के अधिकारीयों द्वारा सीएम को पत्र लिखा गया है। पत्र में समन्वयकों की नियुक्ति पर पुनर्विचार करने कहा गया है। इस संबंध में नाचा का कहना कि समन्वयकों की नियुक्ति के पूर्व उन्हें शासन द्वारा सूचित नहीं किया गया। नाचा ने इस पर चिंता जताई है, क्योंकि हजारों की संख्या में इस संगठन से कई देशों के लोग जुड़े हुए हैं।

नाचा के राष्ट्रीय पदाधिकारियों ने जताया विरोध

नाचा के राष्ट्रीय पदाधिकारियों ने इस नियुक्ति का कड़ा विरोध किया है। 18 देशों के NACHA के अधिकारियों द्वारा छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री को नियुक्ति पर पुनर्विचार के लिए पत्र लिखा गया है। वर्तमान में नियुक्त समन्वयक नाचा का सदस्य नही है। ज्ञात हो कि NACHA द्वारा पिछले कई वर्षों से एनआरआई डिवीजन बनाने के लिए पहल किया गया था। प्रस्ताव बनाकर पूर्व भाजपा सरकार और फिर वर्तमान सरकार को सौंपा गया था। आश्चर्य की बात यह है नियुक्ति से पहले एनआरआई समुदाय को शामिल या सूचित नहीं किया गया है। नाचा छत्तीसगढ़ एनआरआई के लिए एकमात्र कानूनी संगठन है, जिसकी 18 देशों में उपस्थिति है और भारत के बाहर छत्तीसगढ़ की सांस्कृतिक विरासत को लगातार बढ़ावा देता रहा हैं।

‘नाचा’ के बिना वैश्विक मंच पर कार्य करना मुश्किल : शत्रुघ्न बरेठ

नाचा के कार्यकारी उपाध्यक्ष एवं अंतर्राष्ट्रीय समिति के अध्यक्ष शत्रुघ्न बरेठ ने कहा कि गौरतलब है कि NACHA को शामिल किए बगैर वैश्विक मंच पर कार्य कर पाना बेहद मुश्किल है। बेहतर होता छत्तीसगढ़ सरकार इस विषय पर नाचा के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ चर्चा कर लेती। नियुक्त व्यक्ति को कैसे नामांकित किया गया था और वर्तमान सरकार के साथ उसका क्या संबंध है, और उसके नाम की सिफारिश किसने की थी। यह बहुत बड़ा प्रश्नचिन्ह है। हम बहुत सकारात्मक हैं कि माननीय मुख्यमंत्री हमारी चिंता की समीक्षा करेंगे और छत्तीसगढ़ राज्य और उसके लोगों की भलाई के लिए नियुक्ति रद्द कर देंगे।

उन्होंने बताया कि NACHA ने आधिकारिक रूप से घोषणा की है कि नवंबर में अमेरिका और कनाडा में छत्तीसगढ़ राज्य की संस्कृति को 6 भारतीय दूतावासों के साथ मिलकर “छत्तीसगढ़ उत्सव” की मेजबानी करने की योजना बना रहे है। इस उत्सव में छत्तीसगढ़ के 12 से 15 कलाकार अपनी कला का प्रदर्शन अंतरराष्ट्रीय मंच पर करेंगे। यह कार्यक्रम छत्तीसगढ़ी महतारी को समर्पित रहेगा। लेकिन अगर समन्वयक की नियुक्ति में सरकार की ओर से कोई ठोस फैसला नहीं लिया जाता है, तो नाचा बेहतर समन्वय का विकल्प तलाशेगा।

Hindi News के लिए जुड़ें हमारे साथ हमारे
फेसबुक, ट्विटरयूट्यूब, इंस्टाग्राम, लिंक्डइन, टेलीग्रामकू और वॉट्सएप, पर

Back to top button