टीआरपी डेस्क। दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया की मुसीबत कम होने का नाम नहीं ले रही है। इस पूरे मामले में सीबीआई ने आगे की कार्यवाही करते हुए FIR दर्ज कर ली है। इस पूरे मामले में मुख्य आरोपी भी मनीष सिसोदिया को बनाया गया है। कुल 15 लोगों के नाम सामने आए हैं, जिसमें टॉप पर सिसोदिया के नाम का जिक्र है।

बता दें कि उपमुख्यमंत्री के घर कई घंटों से जांच जारी है। सीबीआई को कुछ गोपनीय डॉक्यूमेंट हाथ लगे हैं। सीबीआई के अनुसार डॉक्यूमेंट किसी भी सरकारी अधिकारी के घर पर नहीं होने चाहिए।

जानें क्या है पूरा विवाद ?

मुख्य सचिव ने दो माह पहले ही अपनी रिपोर्ट सौंपी थी। इस रिपोर्ट में GNCTD एक्ट 1991, ट्रांजेक्शन ऑफ बिजनेस रूल्स 1993, दिल्ली एक्साइज एक्ट 2009 और दिल्ली एक्साइज रूल्स 2010 के नियमों का उल्लंघन पाया गया था। उपमुख्यमंत्री पर आरोप लगे हैं कि कोरोना के बहाने लाइसेंस देने में नियमों की अनदेखी की गई। टेंडर के बाद शराब ठेकेदारों के 144 करोड़ रुपए माफ किए गए।

इन 15 लोगों के खिलाफ दर्ज हुआ है मामला

Hindi News के लिए जुड़ें हमारे साथ हमारे
फेसबुक, ट्विटरयूट्यूब, इंस्टाग्राम, लिंक्डइन, टेलीग्रामकू और वॉट्सएप, पर