जयपुर। राजस्थान में सीएम की कुर्सी के लिए खींचतान शुरू हो गई है। बता दें कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए नामांकन भरने की तैयारी है। ऐसे में उनकी जगह मुख्यमंत्री के रूप में हाईकमान की पसंद सचिन पायलट हैं। जिसे देख गहलोत खेमा पायलट के नाम पर बिफर गया। विधायक दल की बैठक से पहले ही गहलोत गुट के करीब 70 से अधिक विधायकों ने विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी के घर पहुंचकर इस्तीफा दे दिया है।

इस बीच मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने दावा किया कि हमारे पास 92 विधायक हैं। उन्होंने आगे कहा कि उनकी एक ही मांग है कि बगावत करने वाले लोगों में से सीएम न बनाया जाए। राजस्थान की में बिगड़ते हालात को देखते हुए इधर, आलाकमान ने अशोक गहलोत, सचिन पायलट, अजय माकन और मल्लिकार्जुन खड़गे को दिल्ली बुला लिया है। ऐसे कयास हैं कि एक बार फिर राजस्थान में विधायकों की बाड़ाबंदी हो सकती है।

नाराज गहलोत गुट के विधायकों का कहना है कि जब पिछली बार सचिन पायलट ने बगावत की थी, तब भी हम सबने सरकार बचायी थी। गहलोत जी ने कहा था कि जब भी कोई फैसला होगा तो सभी विधायकों की बात सुनकर लिया जाएगा। मगर इस बार सचिन पायलट को सीएम बनाने के लिए किसी विधायक से राय नहीं ली गई है।

Hindi News के लिए जुड़ें हमारे साथ हमारे
फेसबुक, ट्विटरयूट्यूब, इंस्टाग्राम, लिंक्डइन, टेलीग्रामकू और वॉट्सएप, पर