भिलाई-दुर्ग। छत्तीसगढ़ यह चिड़ियाघर सफेद शेरों के लिए जाना जाता है। दुर्ग जिले में भिलाई इस्पात संयंत्र द्वारा निर्मित भारत और रूस की मित्रता के प्रतीक मैत्री बाग जू को सफेद शेरों की नर्सरी भी कहा जाता है। यहां लगभग 7 सफेद शेर और शेरनी हैं। इसी कड़ी में दो महीने पहले पैदा हुए नन्हे शावक सिंघम को अब केज के बाहर छोड़ दिया गया है। इसके साथ ही सिंघम को देखने के लिए लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी है।

भिलाई इस्पात संयंत्र के मैत्री बाग में सिंघम अपनी मां रोमा के साथ केज के बाहर खुले आसमान में पहली बार बाहर आया। जिसे देखने के लिए स्कूली बच्चों और पर्यटकों की भीड़ लग रही है। दरअसल दो महीने पहले शावक सिंघम को सफ़ेद शेरनी रोमा ने जन्म दिया है। शावक को किसी तरह की कोई परेशानी न हो इसके लिए जू प्रबंधन ने दो माह तक सिंघम का विशेष ध्यान रखा।
मैत्री बाग

घट रही थी सफ़ेद बाघों की संख्या

जू में एक-एक कर सफेद बाघ की मौत के साथ इनकी संख्या घटती जा रही थी। ऐसे में पैदा हुआ नया शावक कई सालों बाद काफी खुशी लेकर आया है। इससे पहले जू प्रबंधन सफेद शेरनी सोनम और सुल्तान की ब्रीडिंग कराता था, लेकिन सोनम के दूसरे जू चले जाने से सुल्तान अकेला पड़ गया था। इस बीच उसकी दोस्ती जू की नई शेरनी रोमा के साथ हुई। इस जोड़े को एक साथ केज में रखा गया। उनकी ब्रीडिंग कराई गई। यह प्रयोग सफल रहा और जू में फिर से सफेद शेर का कुनबा बढ़ने लगा है।

जू के इंजार्ज डॉ. एनके जैन ने बताया कि मैत्री बाग में 4 सालों बाद कोई शेर पैदा हुआ है। इससे पहले 2018 में सफेद बाघ के शावक रक्षा और आजाद की किलकारी गूंजी थी। सिंघम को दो माह तक पर्यटकों से दूर रखा गया और आज उसे पर्यटकों के लिए बाड़े के बाहर छोड़ा गया। यह पर्यटकों के लिए खास आकर्षण का केंद्र होगा।

देखें VIDEO :

Hindi News के लिए जुड़ें हमारे साथ हमारे
फेसबुक, ट्विटरयूट्यूब, इंस्टाग्राम, लिंक्डइन, टेलीग्रामकू और वॉट्सएप, पर