बिलासपुर। सरकारी धान खरीदी केंद्रों में अवैध धान खपाने का काम शुरू हो गया है। प्रशासन की सक्रियता से ऐसे कुछ मामले पकड़ में भी आ रहे हैं। तजा मामला जिले के कोटा विकासखंड का है, जहां औचक निरिक्षण के दौरान 3 किसानों के नाम पर धान बेचते हुए बिचौलिया पकड़ लिया गया।

कलेक्टर सौरभकुमार के निर्देश पर कोटा एसडीएम हरिओम द्विवेदी के नेतृत्व में निरीक्षण टीम द्वारा यह कार्रवाई की गई। यहां के करगीखुर्द केन्द्र में आज तीन किसानों के नाम पर 60.80 क्विंटल धान खरीदने के लिए टोकन काटे गये थे। इसमें किसान त्रिभुवन का 30 क्विंटल, द्वारिका का 14.80 क्विंटल एवं शारदा बाई का 16 क्विंटल धान शामिल है। निरीक्षण में किसानों द्वारा धान नहीं लाकर बिचौलिया राजीव लोचन द्वारा लाया जाना पाया गया।

जमीन की पर्ची लेकर आया था बिचौलिया

मौके पर टीम द्वारा सम्बंधित किसानों को बुलवाया गया। उन्होंने बयान में बताया कि लाया हुआ धान उनका नहीं है। बिचौलिए द्वारा उनसे जमीन की पर्ची लेकर धान बेचा जाना बताया गया। इससे बिचौलिए की पोल खुल गई।

इस प्रकरण मे पंचनामा तैयार किया गया और 60 क्विंटल धान का जब्त कर सेवा सहकारी समिति करगीखुर्द के सुपुर्द किया गया। मामले मे आगे की कार्रवाई के लिए प्रकरण जिला कलेक्टर को भेजा जा रहा है। निरीक्षण टीम में नायब तहसीलदार रमेश कुमार, सहकारिता सीईओ दुर्गेश साहू सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

Hindi News के लिए जुड़ें हमारे साथ हमारे
फेसबुक, ट्विटरयूट्यूब, इंस्टाग्राम, लिंक्डइन, टेलीग्रामकू और वॉट्सएप, पर