टीआरपी डेस्क। भारतीय मानक ब्यूरो द्वारा जारी की गई ऑनलाइन रिव्यू की गाइडलाइंस आज से प्रभावी हो गई हैं। नई गाइडलाइंस के मुताबिक, ऑनलाइन ई-कॉमर्स कंपनियों को इस बात को पुख्ता करना होगा कि उनकी वेबसाइट ओर मौजूद किसी भी प्रोडक्ट का ऑनलाइन रिव्यू असली है और रेटिंग भी ठीक है।

बता दें कि जब से ऑनलाइन शॉपिंग करने चलन बढ़ा है, तब से बड़ी संख्या में उपभोक्ता के वस्तु खरीदने के मत को प्रभावित करने के लिए ऑनलाइन शॉपिंग कंपनियों की ओर से फर्जी रिव्यू का सिस्टम चलाया जा रहा है। ऐसे में सरकार ने फर्जी रिव्यू पर लगाम लगाने की कोशिश की है।

कंपनियों को होगा फायदा

सरकार की ओर से इन गाइडलाइंस से अच्छी सेवा और उत्पाद बेचने वाली कंपनियों को लाभ होगा। वहीं, उपभक्ताओं को ठगने वालों को नियंत्रण करने में मदद मिलेगी। बता दें, सरकार ने ये गाइडलाइंस सभी पक्षकारों से बातचीत करने के बाद बनाई है।

फिलहाल अनिवार्य नहीं

सरकार की ओर से बताया गया कि ऑनलाइन कंपनियों को फिलहाल छूट दी हैं कि वे अपनी वेबसाइट पर लिस्ट प्रोडक्ट के रिव्यू का आकलन कर फेक रिव्यू को अपनी वेबसाइट से हटाएं। अगर कंपनियों की ओर से ऐसा नहीं किया जाता है, तो सरकार इन नई गाइडलाइंस को अनिवार्य कर सकती हैं।

बता दें कि ऑनलाइन रिव्यू किसी भी ग्राहक के द्वारा की जाने वाली खरीदारी में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। ऑनलाइन रिव्यू तीन प्रमुख क्षेत्र हैं, जहां समीक्षाएं टेक्स्ट, वीडियो या ऑडियो रूप में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं।

Hindi News के लिए जुड़ें हमारे साथ हमारे
फेसबुक, ट्विटरयूट्यूब, इंस्टाग्राम, लिंक्डइन, टेलीग्रामकू और वॉट्सएप, पर