रायपुर। कोल घोटाले मामले में जेल में बंद निलंबित आईएएस रानू साहू और पूर्व मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की उपसचिव रहीं निलंबित राप्रसे सौम्या चौरसिया को रिमांड पर लेकर EOW पूछताछ कर रही है। अब ब्यूरो ने एक और निलंबित आईएएस समीर बिश्नोई और घोटाले के किंग-पिंग कहे जा रहे सूर्यकांत तिवारी को 3 जून तक रिमांड में लिया है। दोनों को गुरुवार को प्रोडक्शन वारंट में ब्यूरो की टीम कोर्ट लेकर आई। यहां दोनों की रिमांड ली गई। अब चारों को एक साथ बैठाकर पूछताछ की जाएगी। इन चारों के अलावा दोनों महिला अफसरों के भाई भी मौजूद रहेंगे, जिन्हें कुछ दिनों पहले ईओडब्ल्यू की टीम ने गिरफ्तार किया है।

कोल लेवी घोटाले के संबंध में ब्यूरो की टीम लगातार कार्रवाई कर रही है। पहले इन सभी से जेल में जाकर पूछताछ की गई। लेकिन, अब सभी जिम्मेदारों को ब्यूरो ने रिमांड पर लेकर पूछताछ शुरू की। पिछले गुरुवार ही दोनों महिला अफसरों को ब्यूरो ने रिमांड पर लिया था। 27 मई तक की दोनों की रिमांड मिली थी। इन्हें 27 मई को दोबारा पेश किया गया और अब 3 जून तक की रिमांड ली गई है। रानू साहू और सौम्या चौरसिया से पूछताछ में जो तथ्य सामने आए हैं, वे सूर्यकांत और समीर बिश्नोई से जुड़े हुए हैं। इसलिए दोनों को रिमांड पर लिया जा रहा है। दोनों को गुरुवार दोपहर कोर्ट में पेश किया गया। ईओडब्ल्यू ने प्रोडक्शन वारंट के लिए कोर्ट में आवेदन लगाया था। कोर्ट ने आवेदन का स्वीकार कर लिया, जिसके बाद दोनों को गुरुवार को कोर्ट में पेश किया गया।

जानकारी के अनुसार ईडी की रिपोर्ट के आधार पर ईओडब्ल्यू ने जनवरी में कोल लेवी घोटाले में करीब 35 लोगों पर एफआईआर की थी। छत्तीसगढ़ में प्रवर्तन निदेशालय ने 540 करोड़ रुपए के कथित कोयला घोटाले का खुलासा किया था। मनी लॉन्ड्रिंग के इस मामले में ईडी ने आईएएस अधिकारी समीर विष्णोई और व्यापारी सूर्यकांत तिवारी सहित तीन अन्य को गिरफ्तार किया था। मनी लॉन्ड्रिंग मामला खदानों में लगे ट्रांसपोर्टर और ट्रकों पर अवैध लैवी वसूलने का है। फिर दो दिसंबर 2022 करीब साढ़े 17 महीने पहले सौम्या चौरसिया को ED ने गिरफ्तार कर लिया था। इसके बाद पिछले साल 22 जुलाई की सुबह IAS रानू साहू को गिरफ्तार कर लिया था।

आध्यात्मिक हो गए सूर्यकांत!

डेढ़ साल से जेल में बंद कारोबारी सूर्यकांत तिवारी का गुरुवार को कोर्ट में अलग ही रूप देखने को मिला। वे धोती और कुर्तें में नजर आए। धोती-कुर्ता और गमछे का रंग पीला था। मतलब के सूर्यकांत पीत वस्त्र में थे। इस नए रूप में देखने के बाद इस बात की चर्चा कोर्ट परिसर में हो रही थी कि सूर्यकांत जेल में रहने के दौरान आध्यात्मिक हो गए हैं। बता दें कि सूर्यकांत को डेढ़ वर्ष से भी ज्यादा का वक्त जेल में रहते बीत गया है। अब तक कोल लेवी मामले में सिर्फ एक ही आरोपी कारोबारी सुनील अग्रवाल को जमानत मिली है।

Trusted by https://ethereumcode.net