NMC विधेयक 2019 के खिलाफ प्रदेश समेत देशभर के 3 लाख डॉक्टर हड़ताल पर

रायपुर। राष्ट्रीय चिकित्सा आयोग (National medical commission) NMC विधेयक 2019 के खिलाफ आज देशभर के लगभग तीन लाख डॉक्टर आज से एक दिन के हड़ताल पर हैं। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (Indian medical association) ने इस देशव्यापी हड़ताल की घोषणा की है।

ये हड़ताल सुबह 6 बजे से गुरुवार सुबह 6 बजे तक जारी रहेगी। हड़ताल की वजह से बुधवार सुबह से अगले 24 घंटे निजी नर्सिंग होम, क्लीनिक, लैब, एक्सरे-सोनोग्राफी सेंटर सब बंद रहेंगे। लेकिन इमरजेंसी सेवा और आईसीयू चालू रहेगा। शहर के सभी प्राइवेट नर्सिंग हाेम और अस्पताल बंद रहेंगे।

बता दें कि NMC विधेयक 2019 मेडिकल काउंसिल की जगह लेगा और इसमें कई बदलाव किए गए हैं। जिसका IMA विरोध कर रहा है। अब तक मेडिकल शिक्षा, मेडिकल संस्थानों और डॉक्टरों के रजिस्ट्रेशन से संबंधित काम मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया (Medical Council of India) की जिम्मेदारी थी। बिल पास होने के बाद NMC विधेयक मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया (Medical Council of India) की जगह लेगा।

बिल के तहत 3.5 लाख नॉन मेडिकल लोगों को लाइसेंस देकर सभी प्रकार की दवाइयां लिखने और इलाज करने का कानूनी अधिकार दिया जा रहा है। जिसका डॉक्टर विरोध कर रहे हैं।

 

हॉस्पिटल बोर्ड के अध्यक्ष डॉ राकेश गुप्ता का कहना है कि छत्तीसगढ़ में भी बुधवार सुबह 6 बजे से प्रदेश के 3 हजार विशेषज्ञ डॉक्टर 24 घंटे के लिए इलाज बन्द कर देंगे। हालांकि इमरजेंसी सेवाएं चालू रहेंगी।

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन और मेडिकल स्टूडेंट नेटवर्क का नेशनल मेडिकल काउंसिल बिल 2019 का विरोध जारी है विरोध के मुख्य बिंदु इस प्रकार हैंः

  • NMC Bill 2019 एमबीबीएस मेडिकल प्रोफेशनल्स के अलावा अन्य पैथी में प्रैक्टिस करने वाले डॉक्टरों को मिक्सपैथी सभी प्रकार की पैथी से इलाज करने की इजाजत दे दी जाएगी। इससे भारत के उच्च गुणवत्ता वाले मेडिकल प्रोफेशनल का स्तर बहुत नीचे गिर जाएगा। 
  • नेशनल मेडिकल कमीशन बिल प्राइवेट मेडिकल कॉलेज की 50% सीटों को मैनेजमेंट कोटे में दे देगा जिससे मेडिकल शिक्षा बहुत ज्यादा महंगी हो जाएगी।
  • डॉक्टरों की संख्या बढ़ाने की दिशा में सरकार ने बीच का अध कचरा रास्ता निकाल लिया है जिसमें एक तिहाई से ज्यादा अर्ध शिक्षित तथाकथित झोलाछाप डॉक्टरों को एलोपैथी मॉडर्न मेडिसिन की प्रैक्टिस करने की इजाजत मिल जाएगी जिससे इलाज की गुणवत्ता पर दुष्प्रभाव पड़ेगा।

 

Chhattisgarh से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें और Twitter पर Follow करें
एक ही क्लिक में पढ़ें The Rural Press की सारी खबरें