Thursday, January 27, 2022
spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomeTop Storiesरहस्यमयी बीमारी का प्रकोप! जिले में 30 बच्चों के शरीर और मुंह...

रहस्यमयी बीमारी का प्रकोप! जिले में 30 बच्चों के शरीर और मुंह के अंदर निकले दाने, फिर हुआ बुखार, परिजन बोले- आयरन का सिरप पीने से बिगड़ी हालत

spot_imgspot_imgspot_imgspot_img

गरियाबंद। छत्तीसगढ़ के गरियाबंद जिले में 30 बच्चे रहस्यमयी बीमारी के चपेट में आए है। बच्चे अब भी गंभीर रूप से बीमार हैं, ऐसे में 30 बच्चों के पीड़ित होने से उनके शरीर और मुंह के अंदर दाने निकल रहे हैं और जलन होने जैसे समस्या के साथ ही बच्चों में बुखार के भी लक्षण हैं।

वहीं परिजनों का कहना है कि सरकारी आयरन की सिरप पीने के बाद यह बीमारी बच्चों को हुई है। जबकि डॉक्टरों का कहना है कि जिन बच्चों ने सिरप नहीं पीया है, उनमें भी ऐसे लक्षण दिखाई दे रहे हैं। हालाँकि अभी बच्चों के बीमार होने के सही कारण अब तक नहीं मिल पाई है। असली कारण तो स्पेशलिस्ट ही बता सकते हैं। तीन दिन से पता होने के बाद भी स्वास्थ्य विभाग की ओर से कोई कार्रवाई नहीं होने पर ग्रामीणों में आक्रोश है।

मिली जानकारी के मुताबिक नवापारा पंचायत और उसके अंर्तगत आने वाले गांव में गुरुवार से बच्चों के बीमार पड़ने का सिलसिला शुरू हुआ है। सरपंच के पति भगत मांझी ने बताया कि मंगलवार को शिशु संरक्षण सप्ताह के तहत 3 साल तक के बच्चों को आयरन सिरप बांटा गया था। सिरप पीने के बाद बुधवार को बच्चों के शरीर पर पहले दाने निकले, फिर मुंह के अंदर भी दिखाई देने लगे। अगले दिन शाम तक उनको बुखार आना भी शुरू हो गया। उन्होंने नवापारा के 18 और आश्रित गांव माहुलपारा के 6 बच्चों के नाम तक बता दिए।

परिजनों ने लगाया यह आरोप

एक पीड़ित बच्चे के परिजन विवेक वर्मा ने बताया कि शुक्रवार को वह बच्चे को लेकर अमलीपदर अस्पताल गए थे। वहां डॉक्टरों ने कुछ दवाई लिखकर बाहर मेडिकल स्टोर से खरीदने के लिए कहा। साथ ही प्राइवेट डॉक्टर को भी दिखाने की सलाह दी। ग्रामीणों का दावा है कि जितने बच्चे बीमार हुए हैं, सब ने सरकारी आयरन सिरप पी है। जिन परिजनों ने अपने बच्चों को नहीं पिलाई, वह स्वस्थ हैं। आरोप लगाया कि स्वास्थ्य विभाग गंभीर नहीं है। लोगों ने मांग की है कि यहां स्वास्थ्य शिविर लगाया जाए।

किसी भी बच्चे में एलर्जी सिमटम्स नहीं : डॉक्टर

अमलीपदर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के चिकित्सा अधिकारी डॉ. भावेश यादव ने कहा कि शुक्रवार से 10 बच्चे आए हैं। इनकी स्थानीय स्तर पर जांच कर दवाई दी गई है। किसी में भी एलर्जी सिमटम्स नहीं है। कुछ और ही हो सकता है, इसलिए पीड़ितों को चाइल्ड एक्सपर्ट की मदद लेने कहा गया था। मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए मामले की जानकारी उच्च अधिकारियों को दे दी गई है। स्थानीय टीम भी लगातार निगरानी कर रही है।

Hindi News के लिए जुड़ें हमारे साथ हमारे
फेसबुक, ट्विटरयूट्यूब, इंस्टाग्राम, लिंक्डइन, टेलीग्रामकू और वॉट्सएप, पर

RELATED ARTICLES
- Advertisment -CG Go Dhan Yojna

R.O :- 11682/ 53

Chhattisgarh Clean State

R.O :- 11664/78





Most Popular