जिनको कोरोना नहीं हुआ, वही हैं निशाने पर, 40 करोड़ लोगों पर अभी मंडरा रहा है खतरा

जिनको कोरोना नहीं हुआ, वही हैं निशाने पर, 40 करोड़ लोगों पर अभी मंडरा रहा है खतरा
Image Source : Google

टीआरपी डेस्क। पिछले दिनों आईसीएमआर का सीरो सर्वे आया, जिससे पता लगा कि भारत की 68 फीसदी आबादी कोविड से संक्रमित हो चुकी है और तकरीबन 40 करोड़ लोगों पर अभी खतरा मंडरा रहा है।

जब दूसरी लहर आई थी, तो पूरे देश में हुए संक्रमण का 80 प्रतिशत दस राज्यों से आया था। 19 राज्य ऐसे थे, जिनमें वैसा संक्रमण नहीं फैला, जैसा कि दिल्ली या फिर महाराष्ट्र में पाया गया था। इन तमाम राज्यों में जो लोग हैं, उनको लेकर एक आशंका जरूर है। वहां अगर तीसरी लहर आती है तो डर तो है ही, जोखिम भी है।

चौथे नेशनल सीरो सर्वे को लेकर ICMR के डायरेक्टर जनरल डॉ बलराम भार्गव ने कहा, ‘राष्ट्रीय सीरो सर्वे का चौथा चरण जून-जुलाई में 21 राज्यों के 70 जिलों में आयोजित किया गया। इसमें 6-17 एज ग्रुप के बच्चे शामिल थे। इसमें 7252 हेल्थकेयर वर्कर्स भी शामिल थे। इनमें से 10 प्रतिशत ने वैक्सीन नहीं लगवाई थी, उनमें ओवरऑल सीरोप्रिविलेंस 85.2 प्रतिशत पाया गया।

ICMR के डायरेक्टर जनरल ने बताया, इस सीरो सर्वे में सामने आया है कि सामान्य आबादी के 2/3 यानी 6 साल से अधिक उम्र के लोगों को SARS-CoV-2 संक्रमण था। भार्गव ने कहा कि इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि एक तिहाई आबादी में एंटीबॉडी नहीं थी यानी देश की 40 करोड़ आबादी अभी भी असुरक्षित है। डॉ बलराम भार्गव ने कहा, बच्चे बड़े लोगों की तुलना में संक्रमण को ज्यादा अच्छी तरह से झेल सकते हैं।

किन में हुआ सीरो सर्वे

28975 लोगों पर सीरो सर्वे किया गया, जिनमें 6 से 9 साल के उम्र के 2892 और 10 से 17 साल के 5799 बच्चों को शामिल किया गया। इतना ही नहीं, इसमें 18 साल के 20284 यंग बच्चों को शामिल किया गया। एज ग्रुप के हिसाब से सीरोप्रिविलेंस की बात करें तो 6 से 9 साल में 57.2 प्रतिशत, 10 से 17 साल की उम्र में 61.6 प्रतिशत, 18 से 44 में 66.7 प्रतिशत, 45 से 60 साल की उम्र की बात करें तो 76.7 प्रतिशत और 60 साल के ज्यादा एज ग्रुप में 76.7 प्रतिशत संक्रमण पाया गया। वहीं, पुरुषों में 65.8 और महिलाओं में 69.2 प्रतिशत संक्रमण पाया गया।

सीरो सर्वे में यह भी पाया गया कि ग्रामीण इलाकों में 66.7 प्रतिशत और शहरी इलाकों में 69.6 प्रतिशत लोग संक्रमण हुए थे। कुल 20276 लोगों में से 12607 लोगों का टीकाकरण नहीं हुआ था। 5038 लोगों ने वैक्सीन की पहली डोज जबकि 2631 लोगों ने वैक्सीन की दोनें डोज ली थी। कुल 28975 में से 67.6 प्रतिशत लोगों में सीरोप्रिविलेंस (संक्रमण) पाया गया।

Hindi News के लिए जुड़ें हमारे साथ हमारे फेसबुक, ट्विटरयूट्यूब, इंस्टाग्राम, लिंक्डइन, टेलीग्राम और वॉट्सएप पर