डॉयल 112 बनी बस्तर के लिए वरदान, 1 हजार लोगों ने उठाया लाभ

जगदलपुर। छत्तीसगढ़ पुलिस की ओर से चालू की गई, डॉयल 112 लोगों के लिए वरदान बनती जा रही है। डायल 112 आम जनता के लिए पुलिस के साथ-साथ फायर और एंबुलेंस का भी काम करती है। इ

सके वाहन 112 संबंधित थानों से संपर्क बनाते हुए 10 मिनट के अंदर घटनास्थल पर पहुंच जाते हैं। यह सेवा जिला पुलिस के अंतर्गत थानों के सहयोग के लिए बनाई गई है ।

डायल 112 चालू होने से जहां एक तरफ पुलिस की कार्रवाई में तेजी आई है, वहीं दूसरी तरफ लोगों में उत्साह देखने को मिल रहा है। लोगों की जुबान पर हर प्रकार की मदद के लिए डायल 112 का ही नाम आने लगा है।

7334 कॉल्स, 1 हजार को मिला फायदा:

जगदलपुर में केवल 9 माह के अंदर करीब 7334 कॉल आ चुके हैं और लगभग 1000 से अधिक लोगों को इसका लाभ भी मिला है। क्योंकि कई बार होता था की पुलिस का इंतजार करें तो एंबुलेंस नहीं आती थी और एंबुलेंस का इंतजार करें तो पुलिस मौके पर नहीं पहुंची थी। वही अब लोग को पुलिस फायर एवं एंबुलेंस की सुविधा एक साथ मिलने से लोग काफी खुश हैं।

क्या कहते हैं जिम्मेदार:

डॉयल 112 प्रभारी अरुण नामदेव ने बताया कि बस्तर जिले में करीब 10 वाहने संचालित हो रही है, जिसमे 2 कोतवाली, 2 बोधघाट, 1 परपा, 1 नगरनार, 1 लोहंडीगुड़ा- बडाजी, 1 करपावंड-बकावण्ड, और 1 वाहन बस्तर चौकी है।

4 सितंबर 2018 को इन वाहनों का संचालन बस्तर जिले में किया गया था, जिसके बाद सितंबर से मई तक कई सड़क हादसे भी देखे गए। आंकड़ों को देखा जाए तो करीब 1300 सड़क हादसे हुए हैं जिसमें घायलों की संख्या भी दुगनी है। डायल 112 में सहायता के लिए 24 घंटे में लगभग 35 से अधिक कॉल को दर्ज किया जाता है, कभी-कभी यह आंकड़ा 60 के ऊपर भी चला जाता है।

 

Chhattisgarh से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें 

Facebook पर Like करें, Twitter पर Follow करें  और Youtube  पर हमें subscribe करें।

Back to top button