कृषि यंत्रों के वितरण में हुए फर्जीवाड़े को लेकर उपसंचालक बिलासपुर और कांकेर सस्पेंड

रायपुर। कृषि यंत्रों के वितरण में की गई अनियमितताओं पर आज कृषि विभाग ने बड़ी कार्रवाई की। इसके तहत बिलासपुर कृषि उपसंचालक आरजी अहिरवार और कांकेर कृषि उपसंचालक चिरंजीव सरकार को निलंबित कर दिया गया है।

मंगलवार को ये जानकारी आरटीआई एक्टिविस्ट उचित शर्मा ने दी। उन्होंने बताया कि इस संबंध में कृषि विकास एवं किसान कल्याण तथा जैव प्रौद्योगिकी विभाग ने आदेश जारी कर दिया है।

दोनों अधिकारियों को कृषि यंत्रों के वितरण में की गई अनियमितताओं एवं अनुदान राशि के दुरुपयोग करने के मामले में निलंबित किया गया है। निलंबन काल में इन अधिकारियों का मुख्यालय संचालनालय कृषि,अटल नगर,रायपुर निर्धारित किया गया है।

दरअसल ये मामला खुद आरटीआई एक्टिविस्ट उचित शर्मा ने उठाया था। तो वहीं विधानसभा में तत्कालीन नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव ने सदन में इस पर कार्रवाई की मांग की थी। उसके बाद अब जाकर कार्रवाई हुई।

क्या था पूरा मामला:

दरअसल भाजपा सरकार के कार्यकाल में किसानों को सब्सिडी पर कृषि उपकरण बांटे गए थे। इनमें बिलासपुर में 1748 किसानों को इसका फायदा मिला। इनमें 570 प्रकरण सही पाए गए। जब कि 1158 लोगों को इन लोगों ने कृषि उपकरण दिए ही नहीं। कांकेर और बिलासपुर मिलाकर कुल 50 करोड़ का फर्जीवाड़ा हुआ था।

इसके बाद भी उसी जिले में किया पदस्थ:

इसकी खासियत ये रही कि इतने सारे सुबूत देने के बावजूद भी सरकार ने कृषि उपसंचालक आरजी अहिरवार को बिलासपुर तो वही कृषि उपसंचालक चिरंजीव सरकार को कांकेर में पदस्थ कर दिया। जहां ये आराम से अपनी कुर्सी संभाले बैठे रहे।

कांग्रेस सरकार ने की कार्रवाई:

इसके बाद जब कांग्रेस की सरकार सत्ता में आई तो उसने शुरू कर दी ऐसे लोगों पर कार्रवाई। उसी के तहत आज इन लोगों को सस्पेंड किया गया है।

 

Chhattisgarh से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Twitter पर Follow करें और Youtube  पर हमें subscribe करें। एक ही क्लिक में पढ़ें  The Rural Press की सारी खबरें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button