पंजाब सरकार ने 424 वीआईपी लोगों की सुरक्षा हटाई, कई वरिष्ठ नेता समेत धर्मगुरु भी शामिल

चंडीगढ़। पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान ने राज्य में 424 वीआईपी  लोगों को दी गई सुरक्षा वापस ले ली है। पंजाब सरकार ने जिन लोगों की सुरक्षा हटाई गई है उनमें कई सेवानिवृत्त वरिष्ठ पुलिस अधिकारी, धर्मगुरु और राजनीतिक हस्तियां शामिल हैं। इससे पहले अप्रैल में पंजाब सरकार ने पूर्व मंत्रियों, पूर्व विधायकों और अन्य नेताओं सहित 184 लोगों की सुरक्षा वापस लेने का आदेश दिया था।

मिली जानकारी के मुताबिक पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी, कैप्टन अमरिंदर सिंह के बेटे रनिंदर सिंह और कांग्रेस विधायक प्रताप सिंह बाजवारे की पत्नी के परिवार की सुरक्षा पिछले महीने वापस ले ली गई है। सुरक्षा को वापस लिए जाने का एक कारण यह भी बताया जा रहा है कि पंजाब पुलिस पहले से ही कर्मचारियों की कमी से जूझ रही है। ऐसे में कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए आम स्थानों पर सुरक्षा कर्मियों की कमी को पूरा करना मुश्किल हो रहा है।

पंजाब में 2,000 अतिरिक्त अर्धसैनिक बल के जवान होंगे तैनात

पंजाब में सुरक्षा और पुख्ता करने के लिए लगभग 2,000 अतिरिक्त अर्धसैनिक बल के जवानों को तैनात किया जाएगा, क्योंकि नियमित तौर पर ऐसी जानकारी मिल रही है कि कुछ तत्व राज्य में अशांति पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं। सीएम भगवंत मान ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के साथ बैठक के बाद यह बात कही । उन्होंने कहा कि उन्हें केंद्र सरकार की ओर से हरसंभव मदद का आश्वासन दिया गया । मान ने कहा कि गृह मंत्री ने उनसे कहा कि राष्ट्रीय सुरक्षा से कोई समझौता नहीं, यह दलगत राजनीति से ऊपर है और केंद्र सरकार पंजाब सरकार को हर संभव मदद मुहैया कराएगी।

Hindi News के लिए जुड़ें हमारे साथ हमारे
फेसबुक, ट्विटरयूट्यूब, इंस्टाग्राम, लिंक्डइन, टेलीग्रामकू और वॉट्सएप, पर

Back to top button