चुनाव से पहले पाटिदारों को लुभा रही भाजपा, नरेश व हार्दिक पटेल के भाजपा में शामिल होने की अटकलें तेज  

अहमदाबाद। भारतीय जनता पार्टी गुजरात में होने जा रही आगामी विधानसभा चुनाव की तैयारी जुट गई है। हार्दिक पटेल के नेतृत्व वाले आरक्षण आंदोलन के बाद साल 2017 के विधानसभा चुनाव से पहले मोहभंग हो चुके पाटीदारों को वापस लाने के लिए भाजपा लगातार काम कर रहा है। भाजपा ने पाटीदार समुदाय की नाराजगी दूर करने के लिए पिछले साल एक पटेल मुख्यमंत्री को प्रदेश की जिम्मेदारी सौंपी।

प्रधानमंत्री मोदी कई परियोजनाओं के अलावा राजकोट जिले में पाटीदार समुदाय द्वारा निर्मित एक अस्पताल का उद्घाटन किया। दरअसल, साल 2017 के विधानसभा चुनाव से पहले खुद को अलग-थलग महसूस करने वाले पाटीदार समुदाय को लुभाने के लिए प्रधानमंत्री मोदी का यह एक और प्रयास है।

नरेश पटेल ने अभी नहीं खोले हैं पत्ते

हाल ही में कांग्रेस को पाटिदार नेता हार्दिक पटेल के रूप में बड़ा झटका लगा है और पार्टी एक दूसरे पाटिदार नेता को अपने संगठन में शामिल कराने में कोशिशों में जुटी हुई है। जिनका नाम नरेश पटेल है। हालांकि नरेश पटेल के पास कांग्रेस के अलावा आम आदमी पार्टी और भाजपा में शामिल होने का भी विकल्प है और उन्होंने पिछले कुछ महीनों में तीनों राजनीतिक दलों के नेताओं से मुलाकात की है।

माना जा रहा है कि नरेश पटेल कांग्रेस में शामिल हो सकते हैं लेकिन उन्होंने अपने पत्ते नहीं खोले। कुछ वक्त पहले उन्होंने कहा था कि अभी किसी तरह की उनकी कोई योजना नहीं है, लेकिन 31 मई तक वो अपना फैसला जनता के सामने रखेंगे। मिली जानकारी के मुताबिक, गुजरात की राजनीति में पाटीदार समुदाय का महत्वपूर्ण प्रभाव है। राज्य की 6 करोड़ से अधिक आबादी में पाटीदार समुदाय की करीब 12 फीसदी हिस्सेदारी है। इतना ही नहीं कई विधानसभा क्षेत्र तो ऐसे हैं जहां पर पाटीदार समुदाय की आबादी करीब 15 फीसदी है। ऐसे में चुनाव नतीजों को पाटीदार समुदाय सीधे तौर पर प्रभावित कर सकती है। इन्हें एक प्रभावी फंड मैनेजर भी माना जाता है।

साल 2017 के विधानसभा चुना में पाटीदार समुदाय की नाराजगी का फायदा सीधेतौर पर कांग्रेस को हुआ था और साल 2021 के स्थानीय निकाय चुनाव में आम आदमी पार्टी को। ऐसे में इस बार किस पार्टी को पाटीदार समुदाय का साथ मिलेगा यह कह पाना अभी मुश्किल होगा। लेकिन तीनों ही राजनीतिक पार्टियां पाटीदार समुदाय को अपने खेमे में लाने की कोशिश कर रही हैं।

प्रधानमंत्री मोदी ने 15 अप्रैल को भुज में एक अस्पताल का उद्धाटन किया था। इसके बाद 29 अप्रैल को पाटीदार संगठन सरदारधाम के एक कार्यक्रम को संबोधित किया। यह तमाम कार्यक्रम पाटीदार समुदाय से जुड़े हुए हैं। इसी बीच भाजपा के एक नेता ने पाटीदार समुदाय को रीढ़ की हड्डी बताया। जबकि दूसरे नेता कहते हैं कि भाजपा के लिए सबका साथ सबका विकास महज एक नारा नहीं बल्कि एक रणनीति है। हम सिर्फ एक समुदाय को खुश नहीं कर सकते, यह चुनावी रूप से हमारे खिलाफ जाएगा। जबकि कांग्रेस प्रमुख पाटीदार नेता परेश धनानी कहते हैं कि पाटीदार समुदाय प्रधानमंत्री मोदी द्वारा उन्हें धोखा देने की कोशिशों के झांसे में नहीं आएगा।

सबसे बड़ा सवाल अभी जो चल रहा है वो यह है कि नरेश पटेल और हार्दिक पटेल किस पार्टी में शामिल होंगे। नरेश पटेल के पास तो कई विकल्प हैं लेकिन हार्दिक पटेल के पास महज भाजपा और आम आदमी पार्टी का ही विकल्प मौजूद है।

Hindi News के लिए जुड़ें हमारे साथ हमारे
फेसबुक, ट्विटरयूट्यूब, इंस्टाग्राम, लिंक्डइन, टेलीग्रामकू और वॉट्सएप, पर

Back to top button