छत्तीसगढ़ राज्य बाल संरक्षण आयोग का स्थापना दिवस समारोह, मुख्यमंत्री ने किया कार्यशाला का शुभारम्भ

रायपुर। राजधानी के न्यू सर्किट हाउस में आज छत्तीसगढ़ राज्य बाल संरक्षण आयोग का स्थापना दिवस समारोह मनाया गया। स्थापना दिवस कार्यक्रम में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, स्कूल शिक्षा मंत्री प्रेमसाय सिंह टेकाम, आयोग के अध्यक्ष सोनल कुमार गुप्ता समेत अन्य अधिकारी शामिल हुए। इस दौरान मुख्यमंत्री ने बच्चो में नशे की आदत और चुनौतियों व इसके समाधान पर आयोजित कार्यशाला का शुभारम्भ किया।

समारोह में अलग अलग विषयों के विशेषज्ञों द्वारा सम्बोधन किया गया। जिसमे मुख्यरूप से बाल अधिकार संरक्षण आयोग की अध्यक्षा तेजकुंवर नेताम द्वारा छत्तीसगढ़ी भाषा में ‘मोबाइल के मोह से बच्चों का बचाव‘ के बारे में किया गया सम्बोधन आकर्षण का केंद्र बना।

ये भी पढ़े – सुरक्षा बलों ने कश्मीरी पंडित की हत्या में शामिल दो आतंकियों को उतारा मौत के घाट

श्रीमती नेताम ने अपने सम्बोधन में कहा कि “जब से लइका मन के पढाई ऑफ़लाइन होये हे तब से उंखर हाथ ले मोबाइल छूट गए हावे। ये लइका मन ह मोबाइल के नाम से बिगडत हाबे। काबर की मोबाइल मा पढ़ाई के साथ साथ अउ बहुत से गलत चीज भी आथे। लेकिन मैं मुख्यमंत्री जी ला कहना चाहत हाव कि अच्छा होंगे की ए साल आप मन पढाई ऑनलाइन नई करे हव। ताकि लइका मन के हाथ से मोबाइल तो छूटे।”
उनके इतना कहते ही मुख्यमंत्री समेत मंच पर मौजूद सभी लोग हँसने लगे।

श्रीमती नेताम ने इसके बाद कहा कि आज कल 2 साल के लइका मन मड़िया के बइठथे ता मोबाइल के चक्कर में पड़ जथे। लइका मन जब 12वी मा जाथे ता अपन माँ बाप ला भी चिल्लाथे की मोला मोबाइल नई दे हव। मोला पढ़ाई करना हे। लेकिन मोबाइल में पढ़ाई नई होय।

Hindi News के लिए जुड़ें हमारे साथ हमारे
फेसबुक, ट्विटरयूट्यूब, इंस्टाग्राम, लिंक्डइन, टेलीग्रामकू और वॉट्सएप, पर

Back to top button