BREAKING NEWS : शिकार करने के पहले ही 4 लोगों को ग्रामीणों ने पकड़ा, आरोपियों में वन और खनिज विभाग के भी कर्मचारी शामिल

कसडोल। रात के वक्त शिकार की नियत से गांव में पहुंचे कार सवारों को ग्रामीणों ने घेर लिया। इस दौरान इनके शिकारी होने की आशंका पर जब वाहन की तलाशी ली गई तब उसमें रायफल, कारतूस, टेलीस्कोप और अन्य हथियार मिले। ग्रामीणों ने चारों को वन अमले के सुपुर्द कर दिया। वहीं पूछताछ के बाद इन्हें पुलिस को सौंप दिया गया। गंभीर बात यह है कि आरोपियों में वन विभाग की रक्षा के लिए नियुक्त फारेस्ट गार्ड और खनिज विभाग का एक कर्मचारी भी शामिल था।

राजा देवरी क्षेत्र में सक्रिय हैं शिकारी

यह मामला बलौदाबाजार जिले के कसडोल थाना क्षेत्र का है जहां लवन
रेंज के सोनाखान राजा देवरी वन क्षेत्र में अवैध तरीके से वन्य जीवों के शिकार की सूचना कई दिनों से मिल रही थी। यहां हिरणों की बहुतायत है और अक्सर लोग इसका शिकार करने आते हैं। कल रात यहां के लवन रेंज के पिपरछेड़ी गांव में कुछ लोग सफेद रंग की अर्टिगा कार क्रमांक सीजी 04 एनएस 1123 में पहुंचे। चूंकि इलाके में काफी समय से जंगली जानवरों के शिकार की शिकायतें मिल रही थीं, इसलिए ग्रामीणों ने संदेह के आधार पर कार को रोक लिया और पूछताछ शुरू कर दी। कार सवार चारों लोगों ने रायपुर से आना बताया और गोल-मोल जवाब दिया। शंका होने पर कार की तलाशी ली गई तब उसमें एक रायफल, जिंदा कारतूस, चाकू, टंगिया आदि रखे हुए मिले।

वन विभाग ने पुलिस के सुपुर्द किया मामला

ग्रामीणों ने रात के वक्त ही कार सवारों को वन अमले के हवाले कर दिया। वन विभाग ने इन सभी से पूछताछ की। इनमे से एक शाहिद नकवी, बैरन बाजार रायपुर का निवासी निकला, जो माइनिंग विभाग रायपुर में सुपरवाइजर के पद पर कार्यरत है, वहीं व्यापार विहार रायपुर निवासी वसीम खान धरसींवा वन क्षेत्र में वन रक्षक है, तीसरा शख्स नवाज खान ग्राम जेबा, अभनपुर में मजदूरी का काम करता है, वहीं चौथा आरोपी आनंद श्रीवास्तव पेंशन बाड़ा निवासी है और पीडब्ल्यूडी में ठेकेदार का काम करता है। वन विभाग के सूत्रों ने बताया कि आरोपियों के पास हथियार तो मिले मगर वे जंगल की बजाय गांव में पकड़ में आये, इसलिए इनके खिलाफ सीधे वन्य प्राणी के शिकार का मामला नहीं बनता, यही वजह है कि आरोपियों को कसडोल पुलिस के हवाले कर दिया गया।

SDO पुलिस सुभाष दास ने बताया कि आरोपियों के पास से एक टेलीस्कोप लगा हुआ पॉइंट टू टू का गन, 21 जिन्दा कारतूस, धार हथियार चमड़े छीलने का 2 नग तेज धारदार चाकू, बकरा काटने का बड़ा कत्ता जब्त किए गए। पॉइंट टू टू का गन, जो हामिद खान से जब्त हुआ जिसका उसने रायपुर जिला का लाइसेंस पेश किया, मगर गन का प्रयोग रायपुर में ना कर बिना अनुमति एवं बिना आदेश के संरक्षित वन में घूमते पाए गए।

आर्म्स एक्ट और संरक्षित वन अधिनियम के तहत कार्रवाई

आरोपियों के संदिग्ध हालात एवं जब्त किए हथियार अवैध शिकार से संबंधित परिलक्षित होना पाए जाने से आरोपियों के खिलाफ धारा 25- 27 आर्म्स एक्ट एवं वन्य प्राणी संरक्षण अधिनियम 1972 की धारा 9, 39, 51 के तहत कार्यवाही की गई। संपूर्ण प्रकरण में बलौदा बाजार के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक दीपक झा एवं अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक पितांबर पटेल, अनुभाग अधिकारी पुलिस बलोदा बाजार सुभाष दास के निर्देशन में थाना प्रभारी आशीष सिंह राजपूत के द्वारा कार्यवाही की गई और आरोपियों को न्यायिक रिमांड पर जेल भेजा गया।

Hindi News के लिए जुड़ें हमारे साथ हमारे
फेसबुक, ट्विटरयूट्यूब, इंस्टाग्राम, लिंक्डइन, टेलीग्रामकू और वॉट्सएप, पर

Back to top button