इन देशों में पहले से लागू है अग्निपथ जैसी योजना, सेना में भर्ती होने हैं अलग-अलग नियम

टीआरपी डेस्क। सरकार द्वारा लागू की गई अग्निपथ योजना का विरोध फिलहाल थमने का नाम ही नहीं ले रहा है। बिगड़े हालातों को काबू में करने के लिए धारा-144 लागू की जा रही है। ऐसे में यह जानना और भी जरूरी हो जाता है कि यह योजना सिर्फ भारत में ही लागू नहीं हुई है, दुनिया के और भी कई देश हैं जहां टूर ऑफ ड्यूटी स्कीम के तहत सेना भर्ती की ऐसी योजनाएं लागू हैं।

क्या है टूर ऑफ ड्यूटी स्कीम

टूर ऑफ ड्यूटी योजना तय अवधि के लिए होती है। जिसमें लोगों को सेना में तय समय के लिए ही शामिल किया जाता है। हालंकि यह भारत के लिए नया है किंतु दुनिया में कई ऐसे देश हैं जहां इस तरह की योजना लागू है। दूसरे विश्व युद्ध के समय जब ब्रिटिश वायुसेना के पायलट तनाव में आ गए थे, तब वायुसेना में टूर ऑफ ड्यूटी का कॉन्सेप्ट लाया गया था। हम आपको बताते हैं किन देशों में टूर ऑफ ड्यूटी योजना लागू है।

अमेरिका

अमेरिका में दो साल के लिए सेना में भर्ती होने का विकल्प है। इस योजना के तहत बेसिक और एडवांस ट्रेनिंग के बाद एक्टिव ड्यूटी पर केवल दो साल के लिए होती है। ऐसा माना जाता है कि इस योजना से उन लोगों को सहूलियत होती है जो लम्बे समय के लिए सेना की नौकरी नहीं करना चाहते। इस शॉर्ट टर्म सेना भर्ती प्लान के तहत दो साल की एक्टिव ड्यूटी के बाद आर्मी रिजर्व में अतिरिक्त दो साल की सेवा देनी होती है।

इजरायल

इजरायल में पुरुष और महिला, दोनों के लिए मिलिट्री सर्विस अनिवार्य है। पुरुष इजरायली रक्षा बल में 3 और महिला करीब 2 साल तक सेवा देती हैं। कुछ सैनिकों को अलग-अलग जिम्मेदारियों के तहत अतिरिक्त महीने की सेवा भी करनी पड़ सकती है। यह नियम देश-विदेश में रह रहे इजरायल के सभी नागरिकों पर लागू है। मेडिकल के आधार पर ही कोई सेना को छोड़ सकता है।

ब्रिटेन

इस देश में आर्मी, नेवी और एयरफोर्स के लिए टूर ऑफ ड्यूटी की सीमा अलग-अलग है। आर्मी में 18 साल के ऊपर के नौजवानों को चार साल के लिए टूर ऑफ ड्यूटी करनी पड़ती है। नेवी में ट्रेनिंग के बाद साढ़े तीन साल और एयरफोर्स में ट्रेनिंग के बाद तीन साल की सेवा देनी पड़ती है।

रूस

यहां 18 से 27 साल तक के युवाओं को सैन्य सेवा देना बेहद जरूरी है। पहले युवाओं के लिए समय 2 साल था मगर 2008 में इसे घटाकर 12 माह कर दिया गया है। डॉक्टर, शिक्षक जैसे पदों पर नियुक्त लोगों के लिए इसमें ढील दी गई है।

बरमूडा

बरमूडा में पुरुषों को सेना में भर्ती करने के लिए सरकार लॉटरी निकालती है। 18 से 32 वर्ष तक के पुरुषों की भर्ती की जाती है। इस लॉटरी में जिनका नाम आता है, उन्हें बरमूडा रेजिमेंट में अनिवार्य रूप से 38 महीनों के लिए सेवा देनी होती है।

स्विट्जरलैंड

स्विट्जरलैंड में सभी सेहतमंद वयस्कों मिलिट्री में शामिल होना होता है। यह सेवा करीब 21 हफ्ते की होती है। इसके बाद जरूरी ट्रेनिंग के अनुसार इसे बढ़ाया जा सकता है।

इन देशो में भी लागू है टूर ऑफ ड्यूटी जैसी योजना

तुर्की, नॉर्वे, थाईलैंड, सिंगापुर, सीरिया, दक्षिण कोरिया, उत्तर कोरिया, ब्राजील, ऑस्ट्रिया, अंगोला, डेनमार्क, मैक्सिको, ईरान समेत कई देश हैं जहां ऐसी योजना लागू है।

Hindi News के लिए जुड़ें हमारे साथ हमारे
फेसबुक, ट्विटरयूट्यूब, इंस्टाग्राम, लिंक्डइन, टेलीग्रामकू और वॉट्सएप, पर

Back to top button