ब्रांडेड कंपनियों के नाम का नकली इंजन आयल तैयार कर बेचने वाला व्यवसायी गिरफ्तार

रायपुर। खमतराई पुलिस ने प्रतिष्ठित कंपनियों के नाम का नकली इंजन ऑयल तैयार करने वाली एक ट्रेडिंग कंपनी में छापा मारा, जहां भारी मात्रा में नकली तेल और डिब्बों में पैकिंग करने वाली मशीनें मिलीं। इस कार्रवाई के दौरान पुलिस ने फर्जीवाड़ा करने वाले अगमदीप छाबड़ा नामक व्यवसायी को गिरफ्तार कर लिया।

साइबर टीम और पुलिस की संयुक्त कार्रवाई

खमतराई पुलिस को सूचना मुखबीर से सूचना मिली थी कि अशोक विहार गोंदवारा स्थित गुरू कृपा ट्रेडिंग के संचालक द्वारा नकली इंजन ऑयल बनाकर अलग-अलग नामी कंपनियों के स्टीकर लगा कर बेचा जा रहा है। इस पर एण्टी क्राईम एवं सायबर यूनिट तथा थाना खमतराई पुलिस की संयुक्त टीम ने अशोक विहार गोंदवारा स्थित गुरू कृपा ट्रेडिंग कंपनी में जाकर रेड की कार्यवाही की। जहां गोदाम में एक व्यक्ति मिला जिसने पूछताछ में अपना नाम अगमदीप छाबड़ा तथा स्वयं को ट्रेडिंग कंपनी का संचालक होना बताया।

नकली आयल की पूरी फैक्ट्री मिली

टीम के सदस्यों ने कंपनी की तलाशी ली तो सभी दंग रह गए। यहां कंपनी के गोडाउन से हीरो, बाइजर, मोटो गोल्ड, वेस्को, हाई मसण्ड्स, फीरो, पॉवर एवं बस्टर के आधा लीटर, 01 लीटर एवं 05 लीटर के डिब्बों सहित कुल 08 ड्रमों में 830 लीटर कुल 1135 लीटर गुणवत्ताहीन रिफाईन नकली इंजन ऑयल होना पाया गया। इसके आलावा डब्बों की पैकिंग करनी वाली मशीनें भी मिलीं।

टीम के सदस्यों द्वारा अगमदीप छाबड़ा से उक्त इंजन ऑयल पैकिंग करने एवं बिक्री करने के संबंध में वैधानिक दस्तावेज मांगने पर उसके द्वारा किसी प्रकार का कोई दस्तावेज प्रस्तुत नही किया गया। इस पर अगमदीप को गिरफ्तार कर उसके पास से 1,88,100/- की सामग्रियां जप्त कर थाना खमतराई में धारा 420 भादवि. एवं 63, 65, 68 कॉपी राईट एक्ट 1957 का अपराध दर्ज किया गया।

ऑटो स्पेयर्स की दुकानों से उठाते हैं डिब्बे

कंपनी के इस गोदाम में बोरियों में भरे इंजिन आयल के पुराने डिब्बे मिले। दरअसल ये डिब्बे उन वर्कशॉप से होकर यहां पहुँचते हैं जहां आप अपनी गाड़ी में इंजिन आयल डलवाने के बाद डब्बे को वहीं छोड़ आते हैं। राजधानी में ऐसी सैकड़ों ऑटो स्पेयर्स की दुकानें और वर्कशॉप हैं जहां हर रोज गाड़ियों की सर्विसिंग और रिपेयरिंग होती हैं। इस दौरान वाहन मालिक या तो वर्कशॉप से ही इंजिन आयल खरीदकर डलवाते हैं, या फिर कहीं और से खरीद कर लाते हैं। इस दौरान जो खाली डब्बा बचता है उसे दुकान संचालकों द्वारा कबाड़ियों को बेच दिया जाता है। यही डिब्बे इस तरह के नकली इंजिन आयल तैयार करने वाली फक्ट्रियों में पहुंच जाता है। जहां से उन्हें फिर से नया जैसा तैयार कर मार्केट में खपा दिया जाता है।

नकली आयल खपाने वालों से सावधान

नकली आयल तैयार करने वाले इसे ब्रांडेड कंपनियों के डिब्बों में पैक करके इसकी बिक्री अपनी दुकान से तो करते ही हैं, साथ ही वे इसे शहर में संचालित छोटी और बड़ी दुकानों में काफी कम दाम में खपा देते हैं। ज्यादा लाभ के चक्कर में ऑटो स्पेयर दुकान के संचालक ऐसे ही नकली तेल अपने ग्राहकों की गाड़ियों में खपा देते हैं। जानकर बताते हैं कि नकली आयल का वाहनों के इंजन पर बुरा असर पड़ता है और वह बहुत जल्दी ख़राब हो जाते हैं। इससे बचने के लिए बेहतर है कि अच्छी कंपनी का आयल संबंधित एजेंसी से खरीदें और उसे मैकेनिक से डलवाएं।
रायपुर जिले की पुलिस ने इससे पहले भी ऐसे कई नकली तेल के कारोबार का भंडाफोड़ किया है, मगर इस व्यवसाय पर अब तक अंकुश नहीं लग सका है। बताया जाता है कि राजधानी के पुराने धमतरी रोड में ऐसे अनेक नकली तेल विक्रेता सक्रिय हैं जो ब्रांडेड कंपनियों के डिब्बों में नकली तेल बेचते हैं। नकली तेल के इस गोदाम पर जरा नजर डालिये :

Hindi News के लिए जुड़ें हमारे साथ हमारे
फेसबुक, ट्विटरयूट्यूब, इंस्टाग्राम, लिंक्डइन, टेलीग्रामकू और वॉट्सएप, पर

Back to top button